America and allies ask citizens to leave Ukraine in 48 hours, war may break out
दुनिया

अमेरिका और सहयोगी देशों ने नागरिकों से 48 घंटे में यूक्रेन छोड़ने को कहा,छिड़ सकता है युद्ध

Khaskhabar/सीमाओं पर बनी तनाव की स्थिति को देखते हुए अमेरिका और उसके सहयोगी देशों ने अपने नागरिकों से 48 घंटे में यूक्रेन छोड़ने के लिए कहा है। रूस के बचे हुए राजनयिकों और अन्य कर्मचारियों ने भी यूक्रेन को छोड़ना शुरू कर दिया है।

Khaskhabar/सीमाओं पर बनी तनाव की स्थिति को देखते हुए अमेरिका और उसके सहयोगी देशों ने अपने नागरिकों से 48 घंटे में यूक्रेन छोड़ने के लिए कहा है। रूस के बचे हुए राजनयिकों
Posted by khaskhabar

पुतिन फ्रांस के राष्ट्रपति इमैनुएल मैक्रों से फोन पर बात करेंगे

इस बीच यूक्रेन के साथ बनी तनाव की स्थिति पर रूसी राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन ने भारतीय समयानुसार शनिवार देर रात अमेरिका के राष्ट्रपति जो बाइडन से फोन पर बात करने का फैसला किया है। इससे पहले पुतिन फ्रांस के राष्ट्रपति इमैनुएल मैक्रों से फोन पर बात करेंगे।

बात नहीं बनी तो कुछ ही घंटों बाद यूक्रेन पर रूसी हमला हो जाएगा

मैक्रों सोमवार को मास्को जाकर यूक्रेन मसले पर उनसे बात कर चुके हैं। माना जा रहा है कि पुतिन और बाइडन में बात नहीं बनी तो कुछ ही घंटों बाद यूक्रेन पर रूसी हमला हो जाएगा। यूक्रेन की सीमाओं पर रूसी सेनाओं की बढ़ी गतिविधियों के बीच अमेरिका, ब्रिटेन, जापान, आस्ट्रेलिया, न्यूजीलैंड आदि ने अपने नागरिकों को यूक्रेन छोड़ने के लिए कहा है।

युद्ध छिड़ने के बाद यूक्रेन से नागरिकों को निकालना संभव नहीं

तीन तरफ से चार मोर्चों पर यूक्रेन के घिरने के बाद अमेरिका सहित पश्चिमी देशों ने नागरिकों से निकलने के लिए कहा है। अमेरिकी राष्ट्रपति बाइडन ने साफ कर दिया है कि युद्ध छिड़ने के बाद यूक्रेन से नागरिकों को निकालना संभव नहीं होगा, इसलिए सभी अमेरिकी जल्द से जल्द वहां से निकल आएं।अमेरिका ने कहा है कि यूक्रेन पर रूसी हमले की शुरुआत हवाई हमलों और मिसाइल प्रहार से हो सकती है, इसके बाद थल सेना और नौसेना के हमले होंगे।

सीमा पर रूसी सैन्य तैनाती बढ़ रही है और बहुत जल्द हमले का अंदेशा

ये हमले बीजिंग में विंटर ओलिंपिक को 20 फरवरी को समापन से पहले हो सकते हैं। अमेरिका के राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार जेक सुलीवान ने कहा है कि यूक्रेन सीमा पर रूसी सैन्य तैनाती बढ़ रही है और बहुत जल्द हमले का अंदेशा है।इस बीच राष्ट्रपति बाइडन ने पोलैंड में तीन हजार अमेरिकी सैनिक और भेजने का निर्देश दिया है। हाल ही में अमेरिका ने यहां पर 1,700 सैनिक भेजे हैं।

नाटो (उत्तरी अटलांटिक संधि संगठन) में शामिल न किए जाने का स्पष्ट आश्वासन

अमेरिका और उसके सहयोगी देशों ने यूक्रेन पर हमला होने पर रूस का कड़े आर्थिक प्रतिबंधों की चेतावनी दी है।रूस यूक्रेन को नाटो (उत्तरी अटलांटिक संधि संगठन) में शामिल न किए जाने का स्पष्ट आश्वासन चाहता है। उसे आशंका है कि यूक्रेन को नाटो में शामिल कर पश्चिमी देश रूस की सीमा पर अपनी मिसाइलें तैनात कर देंगे। इससे रूस पर खतरा बढ़ जाएगा।

यह भी पढ़े —सपा के गढ़ कन्नौज में आज पीएम मोदी की जनसभा, औरैया में मायावती तो बदायूं में अखिलेश यादव की रैली

मध्य यूरोपीय देशों से नाटो की सैन्य तैनाती हटाए जाने की

रूस की इस मांग पर अमेरिका और नाटो कोई जवाब नहीं दे रहे।रूस की एक अन्य मांग पूर्वी और मध्य यूरोपीय देशों से नाटो की सैन्य तैनाती हटाए जाने की है। इस पर भी अमेरिका के नेतृत्व वाले नाटो ने कोई जवाब नहीं दिया है। रूस ने इसे पश्चिमी देशों का अपमानजनक आचरण बताया है। उसने कहा है कि पश्चिमी देशों को रूस समेत पूरे क्षेत्र की सुरक्षा की चिंता नहीं है। वे केवल युद्ध का हौव्वा खड़ा करने में लगे हैं और क्षेत्र में तनाव बढ़ा रहे हैं, जबकि रूसी सेनाएं अपनी सीमा के भीतर हैं।  

और ज्यादा खबरे पढ़ने और जानने के लिए ,अब आप हमे सोशल मीडिया पर भी फॉलो कर सकते है –
ट्विटर पर फॉलो करने के लिए टाइप करे – @khas_khabar एवं न्यूज़ पढ़ने के लिए #khas_khabar फेसबुक पर फॉलो करने के लाइव आप हमारे पेज @socialkhabarlive को फॉलो कर सकते है|