कारोबार राष्ट्रीय

AirAsia टाटा सन्स को बेचेगी भारतीय कारोबार में 32.67% हिस्सेदारी,एयर इंडिया पर भी हैं नजरें

Khaskhabar/एयर एशिया की AirAsia इंडिया में 49 फीसदी हिस्सेदारी है. ग्रुप का कहना है कि भारतीय कारोबार में अपनी हिस्सेदारी बेचने से एयर एशिया ग्रुप प्रमुख साउथ ईस्ट एशियाई बाजारों में अपनी रिकवरी पर ध्यान दे सकेगा. ट्रैवलिंग पर कोविड19 महामारी का असर होने से ग्रुप का इन बाजारों में कारोबार प्रभावित हुआ है.

Khaskhabar/एयर एशिया की एयर एशिया इंडिया में 49 फीसदी हिस्सेदारी है. ग्रुप का कहना है कि भारतीय कारोबार में अपनी हिस्सेदारी बेचने से एयर एशिया ग्रुप प्रमुख साउथ ईस्ट एशियाई बाजारों में अपनी रिकवरी पर ध्यान दे सकेगा. ट्रैवलिंग पर कोविड19 महामारी का असर होने से ग्रुप का इन बाजारों में कारोबार प्रभावित हुआ है.
Posted by khaskhabar

मलेशिया की बजट विमानन कंपनी एयर एशिया (AirAsia Group Bhd) ने अपने भारतीय परिचालनों में 32.67 फीसदी हिस्सेदारी टाटा सन्स (Tata Sons) को बेचने की योजना बनाई है. यह बि​क्री 3.77 करोड़ डॉलर में होगी. एयर एशिया इंडिया, एयर एशिया और टाटा सन्स का ज्वॉइंट वेंचर है और एयर एशिया इंडिया में टाटा सन्स बहुलांश हिस्सेधारक है. यह सौदा मार्च 2021 तक पूरा हो जाने का अनुमान है. ग्रुप ने यह भी कहा है कि वह एयर एशिया इंडिया द्वारा एयर एशिया बरहाद को नहीं चुकाई गई ब्रांड लाइसेंस फीस को भी माफ करने के लिए तैयार है.

Khaskhabar/एयर एशिया की एयर एशिया इंडिया में 49 फीसदी हिस्सेदारी है. ग्रुप का कहना है कि भारतीय कारोबार में अपनी हिस्सेदारी बेचने से एयर एशिया ग्रुप प्रमुख साउथ ईस्ट एशियाई बाजारों में अपनी रिकवरी पर ध्यान दे सकेगा. ट्रैवलिंग पर कोविड19 महामारी का असर होने से ग्रुप का इन बाजारों में कारोबार प्रभावित हुआ है.
Posted by khaskhabar

जापान में बंद कर चुकी है परिचालन

AirAsia ग्रुप ने एक बॉर्स फाइलिंग में कहा कि ग्रुप के निदेशकों ने सावधानीभरे विचार-विमर्श के बाद सर्वसम्मति से फैसला लिया है कि ग्रुप के भारतीय कारोबार में हिस्सेदारी बिक्री एयर एशिया और इसके शेयरधारकों के हित में है. दो माह पहले एयर एशिया ने जापान में अपने परिचालन बंद कर दिए. इसके पीछे कोविड काल के बेहद चुनौतीपूर्ण हालातों का हवाला दिया गया.

नवंबर में की थी निवेश की समीक्षा

एयर एशिया ग्रुप के सीईओ टोनी फर्नांडीज ने सितंबर में कहा था कि समूह साउथईस्ट एशिया में अपनी मौजूदगी को कंसोलिडेट और मजबूत करना चाहता है. इसका अभिप्राय जापान और भारत से कारोबार समेटना हो सकता है. नवंबर में एयर एशिया ने घोषणा की थी कि वह भारत में अपने निवेश की समीक्षा कर रही है क्योंकि वहां इसके परिचालनों पर आ रही लागत कंपनी पर वित्तीय बोझ डाल रही है.

यह भी पढ़े—11 एकड़ में खड़ी आलू की फसल को युवा किसान ने ट्रैक्टर चलाकर किया नष्ट, उचित दाम न मिलने से था नाराज

ज्वाइंट वेंचर में शामिल टाटा ग्रुप सरकारी कंपनी

पहले से ही विस्तारा के साथ भी ज्वाइंट वेंचर में शामिल टाटा ग्रुप सरकारी कंपनी एयर इंडिया को भी खरीदने की योजना बना रहा है। टाटा समूह ने इसके लिए बिड भी की है। एयर इंडिया की शुरुआत टाटा समूह ने ही की थी, इसीलिए टाटा का इसके साथ एक भावनात्मक लगाव भी है ।बीते नवंबर में ही टाटा समूह ने एयर एशिया में 5 करोड़ डॉलर की आपात रकम निवेश करने की योजना बनाई थी। जबकि एयर एशिया ने भारतीय कारोबार में निवेश को बंद कर दिया था और भारतीय बिजनेस के वैल्यूशएन की योजना शुरू कर दी थी।

और ज्यादा खबरे पढ़ने और जाने के लिए ,अब आप हमे सोशल मीडिया पर भी फॉलो कर सकते है –
ट्विटर पर फॉलो करने के लिए टाइप करे – @khas_khabar एवं न्यूज़ पढ़ने के लिए #khas_khabar फेसबुक पर फॉलो करने के लाइव आप हमारे पेज @socialkhabarlive को फॉलो कर सकते है|