After the resignation of Captain Amarinder Singh, the name of the new CM could not be announced yet.
राष्ट्रीय

कैप्‍अन अमरिंदर सिंह के इस्‍तीफे के बाद अब तक नए सीएम के  लिए नाम का नहीं हो सका एलान

Khaskhabar/पंजाब के मुख्‍यमंत्री पद से कैप्‍अन अमरिंदर सिंह के इस्‍तीफे के बाद अब तक नए सीएम के  लिए नाम का एलान नहीं हो सका है। पंजाब कांग्रेस के पूर्व प्रधान सुनील जाखड़ का नाम लगभग तय माना जा रहा है। उनके नाम की नए मुख्यमंत्री के रूप में घोषणा कांग्रेस विधायक दल की बैठक में आज ही हो जाता, लेकिन ऐन मौके पर यह टल गया।

Khaskhabar/पंजाब के मुख्‍यमंत्री पद से कैप्‍अन अमरिंदर सिंह के इस्‍तीफे के बाद अब तक नए सीएम के  लिए नाम का एलान नहीं हो सका है। पंजाब कांग्रेस के पूर्व प्रधान सुनील जाखड़
Posted by khaskhabar

दरअसल सहकारिता मंत्री सुखजिंदर सिंह रंधावा ने इसमें अड़चन डाल दी। अब आज देर रात या कल पंजाब कांग्रेस विधायक दल के नए नेता और पंजाब के नए सीएम के रूप में सुनील जाखड़ का नाम घाेषित होने की संभावना है।

हाईकमान की ओर से आए पर्यवेक्षकों ने सुनील जाखड़ के नाम को आगे किया

बताया जाता है कि कांग्रेस विधायक दल की बैठक में जब मुख्यमंत्री के चयन का मामला सामने आया तो पार्टी हाईकमान की ओर से आए पर्यवेक्षकों ने सुनील जाखड़ के नाम को आगे किया और कहा कि सभी विधायक आधे घंटे के लिए यही रुक जाएं। इसी बीच नए मुख्यमंत्री के नाम की घोषणा कर दी जाएगी। इसी दौरान सहकारिता मंत्री सुखजिंदर सिंह रंधावा किसी जट सिख को मुख्यमंत्री बनाने की मांग को लेकर अड़ गए। उन्होंने खुद का नाम आगे करते हुए कहा कि उनके नाम पर विचार क्यों नहीं किया जा रहा है।

केंद्रीय पर्यवेक्षकों ने कहा कि उनकी बातों को भी हाईकमान के सामने रखा जाएगा

रंधावा ने कहा कि जट सिख को ही पंजाब का मुख्यमंत्री इस्‍तीफे होना चाहिए। उनके ऐसा कहते ही मंत्री चरणजीत सिंह चन्नी ने कहा कि यदि ऐसा है तो फिर एक दलित को भी उपमुख्यमंत्री बनाया जाए और इसके लिए उनके नाम पर विचार किया जाए। बात बढ़ती देख कर केंद्रीय पर्यवेक्षकों ने कहा कि उनकी बातों को भी हाईकमान के सामने रखा जाएगा। इसके बाद सारे अधिकार पार्टी प्रधान सोनिया गांधी को सौंपते हुए मीटिंग को खत्‍म कर दिया गया।

 यह भी पढ़े —निर्मला सीतारमण की अध्यक्षता में हुई जीएसटी काउंसिल की 45वीं बैठक

पंजाब में राष्ट्रपति राज हो सकता है लागू

बताया जाता है कि बाद में सभी ने मिलकर एक बार फिर से सुखजिंदर सिंह रंधावा से बात की और कहा कि यदि वह अपनी जिद पर अड़े रहेंगे तो पंजाब में राष्ट्रपति राज लागू हो सकता है । उन्होंने यह भी समझाया कि वह अपनी जिद छोड़ कर सुनील जाखड़ के नाम पर सहमति बनाएं। बताते हैं कि रंधावा मान गए हैं। ऐसे में जल्‍द मुख्यमंत्री के रूप में सुनील जाखड़ के नाम पर किसी भी समय मुहर लग सकती है।

और ज्यादा खबरे पढ़ने और जानने के लिए ,अब आप हमे सोशल मीडिया पर भी फॉलो कर सकते है –
ट्विटर पर फॉलो करने के लिए टाइप करे – @khas_khabar एवं न्यूज़ पढ़ने के लिए #khas_khabar फेसबुक पर फॉलो करने के लाइव आप हमारे पेज @socialkhabarlive को फॉलो कर सकते है|