4th COVID-19 Wave: What did the famous doctor Jacob Jan say about the fourth wave of Corona in the country?
राष्ट्रीय स्वास्थ

4th COVID-19 Wave: देश में कोरोना की चौथी लहर को लेकर क्या बोले मशहूर डाक्टर जैकब जान

Khaskhabar/देश में कोरोना के मामले एक बार फिर बढ़ने लगे हैं। लोग चौथी लहर को लेकर अभी से आशंकित हैं। प्रख्यात वायरोलाजिस्ट डाक्टर टी जैकब जान ने मंगलवार को कहा कि भारत में कोरोना की चौथी लहर की संभावना बेहद कम है। यह पूछे जाने पर कि कुछ राज्यों में कोरोना के मामलों में तेजी देखी जा रही है। इस पर वायरोलाजिस्ट जैकब जान ने कहा कि दिल्ली और हरियाणा में पिछले दो से तीन हफ्तों में कोरोना के मामलों की ​​​​संख्या में मामूली वृद्धि हुई थी, लेकिन यह वृद्धि लगातार जारी नहीं रही है।

Khaskhabar/देश में कोरोना के मामले एक बार फिर बढ़ने लगे हैं। लोग चौथी लहर को लेकर अभी से आशंकित हैं। प्रख्यात वायरोलाजिस्ट डाक्टर टी जैकब जान ने मंगलवार को कहा कि भारत में कोरोना
Posted by khaskhabar

अप्रैल के दौरान कोरोना के मामले कम और अपेक्षाकृत स्थिर संख्या के साथ बने हुए

साथ ही डाक्टर जान ने कहा कि मेरी जानकारी में कोई भी राज्य कोरोना के मामलों में वृद्धि की रिपोर्ट नहीं कर रहे हैं। देश में मार्च और अप्रैल के दौरान कोरोना के मामले कम और अपेक्षाकृत स्थिर संख्या के साथ बने हुए हैं। दिल्ली और हरियाणा में पिछले दो से तीन सप्ताह में मामूली वृद्धि हुई थी लेकिन वृद्धि लगातार नहीं रह रही है।

दुष्प्रभावों के खिलाफ हमारा सबसे अच्छा बचाव टीकाकरण का बहुत अधिक होना

दिल्ली में एक हजार केस सिर्फ 5 लाख प्रति आबादी के बराबर है।डाक्टर जान ने कहा कि अगर चौथी लहर आती है तो यह मेरे लिए केवल आश्चर्य की बात होगी। इसलिए मैं इसके बारे में कुछ भी अनुमान नहीं लगा सकता। साथ ही कहा कि चौथी लहर की संभावना बेहद कम है। कोरोना की लहर के दुष्प्रभावों के खिलाफ हमारा सबसे अच्छा बचाव टीकाकरण का बहुत अधिक होना है।

वायरोलाजिस्ट ने कहा कि मास्क का उपयोग जरूर करना चाहिए

पूर्ण टीकाकरण का मतलब है कि दो खुराक और कम से कम 6 महीने बाद एक एहतियाती खुराक ली गई हो। उन्होंने यह भी कहा कि पूर्ण टीकाकरण के रूप में दो खुराक का आधिकारिक संस्करण अवैज्ञानिक है।कोरोना के मामलों को रोकने व इससे बचने के लिए और क्या किया जाना चाहिए, इस पर वायरोलाजिस्ट ने कहा कि मास्क का उपयोग जरूर करना चाहिए। यह पूछे जाने पर कि बढ़ते मामलों के बीच क्या स्कूलों को बंद कर दिया जाना चाहिए, इस पर डाक्टर जान ने कहा कि स्कूलों को बिल्कुल बंद नहीं किया जाना चाहिए। स्कूल खुले रहने चाहिए।

यह भी पढ़े —एलन मस्क ने 43 अरब डालर यानी करीब 3200 अरब रुपये में ट्विटर को खरीदा

कोरोना वायरस हमें फिर से एकदम से आश्चर्यचकित न करे

देश में क्या कोरोना वायरस के कोई नया वैरिएंट है, इस पर वायरोलाजिस्ट ने नकारात्मक प्रतिक्रिया देते हुए कहा कि जहां भी कोरोना के मामलों में उतार-चढ़ाव था, वहां भी मामलों में गिरावट आई है। कोरोना के मामलों में वृद्धि बिल्कुल भी कायम नहीं है। इसलिए मुझे नहीं लगता कि कोई नया वैरिएंट शामिल है। हालांकि, वैरिएंट स्क्रीनिंग को जारी रखा जाना चाहिए ताकि कोरोना वायरस हमें फिर से एकदम से आश्चर्यचकित न करे।

और ज्यादा खबरे पढ़ने और जानने के लिए ,अब आप हमे सोशल मीडिया पर भी फॉलो कर सकते है –
ट्विटर पर फॉलो करने के लिए टाइप करे – @khas_khabar एवं न्यूज़ पढ़ने के लिए #khas_khabar फेसबुक पर फॉलो करने के लाइव आप हमारे पेज @socialkhabarlive को फॉलो कर सकते है|