45th meeting of GST Council chaired by Nirmala Sitharaman
कारोबार

निर्मला सीतारमण की अध्यक्षता में हुई जीएसटी काउंसिल की 45वीं बैठक

Khaskhabar/पेट्रोल-डीजल की बढ़ी कीमतों से फिलहाल राहत नहीं मिलने वाली है। शुक्रवार को लखनऊ में केंद्रीय वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण की अध्यक्षता में हुई जीएसटी काउंसिल की 45वीं बैठक में ज्यादातर राज्यों ने पेट्रोल-डीजल को जीएसटी के दायरे में लाने का विरोध किया है।

Khaskhabar/पेट्रोल-डीजल की बढ़ी कीमतों से फिलहाल राहत नहीं मिलने वाली है। शुक्रवार को लखनऊ में केंद्रीय वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण की अध्यक्षता में हुई जीएसटी काउंसिल की 45वीं बैठक
Posted by khaskhabar

आदेश के रूप में किसी व्यक्ति ने उच्च न्यायालय का दरवाजा खटखटाया

वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने शुक्रवार को स्पष्ट किया कि केरल उच्च न्यायालय के आदेश के कारण ही पेट्रोल, डीजल जीएसटी परिषद के एजेंडे में था। उन्होंने कहा कि “यह आइटम आज की चर्चा के एजेंडे में विशुद्ध रूप से आया क्योंकि केरल उच्च न्यायालय के आदेश के रूप में किसी व्यक्ति ने उच्च न्यायालय का दरवाजा खटखटाया और अदालत ने कहा कि इसे जीएसटी परिषद द्वारा लिया जा सकता है। 

दवाओं समेत कुछ अन्य जीवनरक्षक औषधियां अब सस्ती होंगी

अदालत के निर्देश पर, इसे लाया गया और सदस्यों ने इसका विरोध किया।वहीं कोरोना कैंसर के इलाज में काम आने वाली दवाओं समेत कुछ अन्य जीवनरक्षक औषधियां अब सस्ती होंगी। बैठक के बाद केंद्रीय वित्त मंत्री ने बताया कि काउंसिल की बैठक में तय हुआ है कि फूड डिलीवरी एप के जरिये खानपान की आपूíत में जीएसटी अब उस प्वाइंट से लिया जाएगा, जहां खाने की डिलीवरी हुई हो।

कोविड-19 और ब्लैक फंगस के इलाज में काम आने वाली चार दवाओं पर दी गई जीएसटी की छूट

अभी तक यह टैक्स रेस्टोरेंट देते थे। अब एग्रीगेटर (फूड डिलिवरी कंपनियों) को यह टैक्स देना होगा।जीएसटी काउंसिल ने कोविड-19 और ब्लैक फंगस के इलाज में काम आने वाली चार दवाओं पर दी गई जीएसटी की छूट की अवधि को 31 दिसंबर तक बढ़ाने का फैसला किया है। इनमें एंफोटेरिसीन-बी, टोसिलिजुमैब पर जीएसटी की दर शून्य तथा रेमडेसिविर व हेपेरिन पर पांच फीसद रहेगी।

काउंसिल ने इटोलिजुमैब, पोसाकोनाजोल, इन्फ्लिक्सिीमैब, बामलानिविमैब, एटिसिविमैब, केसिरिविमैब, इमडेविमैब, डीआक्सी-डी-ग्लूकोज और फेविपिराविर जैसी दवाओं पर जीएसटी की दर को घटाकर 12 से पांच प्रतिशत करने का निर्णय किया है।

दवाओं पर जीएसटी की दर को 12 से घटाकर पांच फीसद किया

केट्रूडा समेत कैंसर की कुछ दवाओं पर जीएसटी की दर को 12 से घटाकर पांच फीसद किया गया है। मांसपेशियों में सिकुड़न के इलाज के लिए आयात की जाने वाली महंगी दवाओं जोलजेन्समा और विलटेप्सो को सस्ता करने के उद्देश्य से उन्हें आइजीएसटी से मुक्त कर दिया है। 

दिव्यांगों द्वारा इस्तेमाल किए जाने वाले वाहनों की रेट्रो फिटमेंट किट पर जीएसटी की दर को घटाकर पांच फीसद किया

मांसपेशियों में सिकुड़न के इलाज के लिए स्वास्थ्य मंत्रालय की ओर से संस्तुत उन दवाओं को भी आइजीएसटी से मुक्त किया गया है, जो व्यक्तिगत उपभोग के लिए खरीदी जाएंगी।सीतारमण ने बताया कि काउंसिल ने दिव्यांगों द्वारा इस्तेमाल किए जाने वाले वाहनों की रेट्रो फिटमेंट किट पर जीएसटी की दर को घटाकर पांच फीसद किया है।-आइसीडीएस के इस्तेमाल के लिए पौष्टिकता से भरपूर धान की फोर्टीफाइड भूसी पर जीएसटी दर अब 18 की बजाय पांच फीसद होगी।

यह भी पढ़े —प्रधानमंत्री मोदी की जन्मतिथि के अवसर पर एक दिन में लगी 2.25 करोड़ डोज,विश्व रिकार्ड तोड़ा

काउंसिल ने 20 लाख तक के टर्नओवर वाले ईंट भट्ठों के लिए अप्रैल 2022 से विशेष कंपोजीशन स्कीम

तेल कंपनियों द्वारा डीजल में मिलाने के लिए इस्तेमाल किये जाने वाले बायोडीजल पर जीएसटी की दर को 12 से घटाकर पांच फीसद किया गया है।काउंसिल ने 20 लाख तक के टर्नओवर वाले ईंट भट्ठों के लिए अप्रैल 2022 से विशेष कंपोजीशन स्कीम शुरू करने पर सहमति दी है। ईंट भट्ठों के लिए बिना इनपुट टैक्स क्रेडिट के छह प्रतिशत जीएसटी दर तय की गई है। यदि वे इनपुट टैक्स क्रेडिट लेते हैं तो उन्हें 12 फीसद जीएसटी देना होगा।

काउंसिल ने तंबाकू उत्पादों और पान मसाला पर उत्पादन क्षमता के आधार पर लेवी लगाने के प्रस्ताव के परीक्षण के लिए मंत्रियों के समूह को तीन महीने का समय और देने पर रजामंदी दी है।

और ज्यादा खबरे पढ़ने और जानने के लिए ,अब आप हमे सोशल मीडिया पर भी फॉलो कर सकते है –
ट्विटर पर फॉलो करने के लिए टाइप करे – @khas_khabar एवं न्यूज़ पढ़ने के लिए #khas_khabar फेसबुक पर फॉलो करने के लाइव आप हमारे पेज @socialkhabarlive को फॉलो कर सकते है|