25 people detained in Germany on charges of plotting terror
दुनिया

आतंकी साजिश रचने के आरोप में जर्मनी में 25 लोगों को हिरासत में लिया गया

तख्तापलट के लिए आतंकी साजिश रचने के आरोप में जर्मनी में 25 लोगों को हिरासत में लिया गया है। बुधवार की सुबह लगभग 3 हजार पुलिस के जवानों ने जर्मनी के 16 में से 11 राज्यों में सर्च ऑपरेशन चलाया। इसमें प्रतिबंधित आतंकी संगठन ‘रीच्सबर्गर’ से जुड़े लोगों को पकड़ा गया।

तख्तापलट के लिए आतंकी साजिश रचने के आरोप में जर्मनी में 25 लोगों को हिरासत में लिया गया है। बुधवार की सुबह लगभग 3 हजार पुलिस के जवानों ने जर्मनी के 16 में से 11 राज्यों में सर्च ऑपरेशन चलाया

पकड़े गए 25 लोगों का पार्लियामेंट में जबरन हथियारों के साथ घुसने का पक्का इरादा था

आतंकी साजिश के आरोप में पकड़े गए लोगों में 72 साल के रिटायर्ड मिलिट्री कमांडर और राइट विंग पार्टी के पूर्व एमपी भी शामिल हैं। प्रासीक्यूटर ने बताया कि इस मामले में पकड़े गए 25 लोगों का पार्लियामेंट में जबरन हथियारों के साथ घुसने का पक्का इरादा था। इनमें से 22 लोग जर्मनी के नागरिक हैं। बाकी 3 लोगों में से एक रूसी महिला भी है जो इन लोगों का समर्थन कर रही थी।

सर्च ऑपरेशन चलाया गया उनमें जर्मनी की स्पेशल फोर्स KSK के बैरक भी हैं

जर्मनी के लोकल मीडिया के मुताबिक जिन जगहों पर सर्च ऑपरेशन चलाया गया उनमें जर्मनी की स्पेशल फोर्स KSK के बैरक भी हैं। इस युनिट के कुछ सैनिकों से पहले भी धुर दक्षिण पंथी संगठनों से जुड़ होने के कारण पूछताछ की गई थी। अलजजीरा की रिपोर्ट के मुताबिक इस ग्रुप के पास खतरनाक हथियार मौजूद थे।

जर्मनी के पैराट्रूपर बैटालियन का सीनीयर फील्ड अफसर रुडगर वॉन पी भी इसका साथी बताया जा रहा

जर्मन मीडिया के मुताबिक पूरे ग्रुप का लीडर 71 साल का हाइनरिक है जो ईस्टर्न जर्मनी के शाही परिवार का वंशज है। साथ ही जर्मनी के पैराट्रूपर बैटालियन का सीनीयर फील्ड अफसर रुडगर वॉन पी भी इसका साथी बताया जा रहा है। रुडगर पी वॉन और हाइनरिक ने पिछले साल अपने संगठन को बनाया था । इसका लक्ष्य जर्मनी की मौजूदा सरकार को गिराकर अपनी खुद की सरकार बनाने का था।

58 साल के पूर्व एमपी बिरगिट मालसैक को कानून मंत्री चुना गया था

तख्तापलट के बाद बनने वाली सरकार के लिए इस ग्रुप के सदस्यों ने मंत्रियों को चुनना भी शुरू कर दिया था। इसके लिए 58 साल के पूर्व एमपी बिरगिट मालसैक को कानून मंत्री चुना गया था। पकड़े गए सभी लोगों का मानना था कि उनके देश को कोई ऐसी सरकार चला रही है जो जर्मनी विरोधी है। तख्तापलट की नाकाम साजिश में पकड़ी गई एक महिला रूसी बताई जा रही है।

यह भी पढ़े —नई आईटी तकनीक से यूपी में बढ़ गया गन्ने का प्रोडक्शन, पेराई में भी हुई ग्रोथ

संगठन की तरफ से रूस में किस से संपर्क किया गया

माना जा रहा है कि वो संगठन को रूस से मदद दिलाने की कोशिश कर रही थी। अभी तक ये नहीं पता चला है कि इस संगठन की तरफ से रूस में किस से संपर्क किया गया था। हालांकि रूस ने इस तरह के किसी भी मामले की जानकारी होने से मना कर दिया है। रूस के प्रवक्ता ने कहा कि यह जर्मनी का आंतरिक मामला है।

और ज्यादा खबरे पढ़ने और जानने के लिए ,अब आप हमे सोशल मीडिया पर भी फॉलो कर सकते है –
ट्विटर पर फॉलो करने के लिए टाइप करे – @khas_khabar एवं न्यूज़ पढ़ने के लिए #khas_khabar फेसबुक पर फॉलो करने के लाइव आप हमारे पेज @socialkhabarlive को फॉलो कर सकते है
 |