137 deaths in Ukraine on first day of war, Russia occupied Chernobyl
दुनिया

जंग के पहले दिन यूक्रेन में 137 मौतें, चेर्नोबिल पर रूस ने किया कब्जा

Khaskhabar/यूक्रेन के राष्ट्रपति जेलेन्सकी ने यूक्रेन में रूस के साथ शुरू हुए जंग में पहले दिन 137 लोगों के मारे जाने की पुष्टि की और यह भी बताया कि राजधानी कीव से कुछ ही दूर पर स्थित चेर्नोबिल न्यूक्लियर साइट भी अब मास्को के नियंत्रण में चला गया है। उल्लेखनीय है कि द्वितीय विश्व युद्ध के बाद यूरोप में सबसे बड़ी सैन्य कार्रवाई के तहत यूक्रेन में रूस ने तीन तरफ से हमला बोल दिया है जिससे यहां की सुरक्षा व्यवस्था पूरी तरह चरमरा गई है।

Khaskhabar/यूक्रेन के राष्ट्रपति जेलेन्सकी ने यूक्रेन में रूस के साथ शुरू हुए जंग में पहले दिन 137 लोगों के मारे जाने की पुष्टि की और यह भी बताया कि राजधानी कीव से कुछ ही दूर पर स्थित चेर्नोबिल
ukrane graph-Posted by khaskhabar

मैक्रों ने रूस के राष्ट्रपति से यूूक्रेन में सैन्य कार्रवाई को तुरंत रोक देने को कहा

इस बीच यूक्रेन ने गुरुवार को संयुक्त राष्ट्र से तत्काल मानवाधिकार परिषद की बैठक बुलाने की मांग की है। वहीं फ्रांस के राष्ट्रपति इमैनुएल मैक्रों ने रूस के राष्ट्रपति व्लादीमिर पुतिन से यूूक्रेन में सैन्य कार्रवाई को तुरंत रोक देने को कहा है। बता दें कि यूक्रेन पर रूसी हमले के खिलाफ मसौदे पर शुक्रवार को UNSC में वोटिंग होगी। वहीं नाटो भी इमरजेंसी समिट आयोजित करेगा।

राजधानी कीव के उत्तर में 130 किलोमीटर की दूरी पर स्थित

अप्रैल, 1986 को चेर्नोबिल परमाणु संयंत्र में दुनिया की सबसे भीषण परमाणु दुर्घटना हुई थी। इसमें विस्फोट के बाद पूरे यूरोप में रेडिएशन हुआ था। यह संयंत्र देश की राजधानी कीव के उत्तर में 130 किलोमीटर की दूरी पर स्थित है। जिस रिएक्टर में विस्फोट हुआ था, उसमें से विकिरण रिसाव रोकने के लिए उसे एक सुरक्षात्मक उपकरण से कवर किया गया है और पूरे संयंत्र को निष्क्रिय कर दिया गया है।यूक्रेन में चीनी दूतावास ने शुक्रवार को कहा कि पूर्वी यूरोपीय देश में मौजूद सभी चीनी नागरिक स्वदेश वापसी के लिए चार्टर्ड फ्लाइट के लिए रजिस्ट्रेशन करा लें।

यूक्रेन में कुल 6000 चीनी नागरिक

यह नोटिस दूतावास के आधिकारिक वीचैट अकाउंट पर पोस्ट किया गया। इसमें यह बताया गया कि इसके लिए 27 फरवरी तक रजिस्ट्रेशन हो सकता है। यूक्रेन में कुल 6000 चीनी नागरिक हैं।यूक्रेन से लोगों का पलायन जारी है। इस क्रम में जान बचाकर यूक्रेनी जनता पोलैंड, हंगरी, रोमानिया समेत अन्य पड़ोसी देश पहुंचने लगे हैं। यूएन का अनुमान है कि एक लाख से अधिक लोग यूक्रेन छोड़कर दूसरे देशों में चले गए हैं। इस हमले के एवज में रूस को अब भारी कीमत चुकानी पड़ेगी।

रूस द्वारा मचाई गई तबाही को लेकर इसपर कड़े प्रतिबंधों का ऐलान कर दिया

कनाडा ने गुरुवार को 58 रूसी व्यक्तियों और संस्थाओं पर प्रतिबंध लगा दिया। वहीं आज ही अमेरिका के राष्ट्रपति जो बाइडन ने भी यूक्रेन में रूस द्वारा मचाई गई तबाही को लेकर इसपर कड़े प्रतिबंधों का ऐलान कर दिया। इसके अलावा जी-7 देश रूस के खिलाफ प्रतिबंधों के विनाशकारी पैकेजों और अन्य आर्थिक उपायों पर आगे बढ़ने और पर सहमत हो गए हैं। जी-7 में कनाडा, फ्रांस, जर्मनी, इटली, जापान, ब्रिटेन, अमेरिका और यूरोपीय यूनियन शामिल हैं।

बमबारी से यूक्रेन की हवाई सुरक्षा व्यवस्था तबाह हो गई

द्वितीय विश्व युद्ध के बाद यूरोप में सबसे बड़ी सैन्य कार्रवाई अब यूक्रेन में रूस कर रहा है। जमीनी, हवाई और समुद्री रास्ते से भीषण बमबारी से यूक्रेन की हवाई सुरक्षा व्यवस्था तबाह हो गई है। 74 सैन्य ठिकाने और 11 एयरबेस नष्ट हो गए। हालांकि रूस ने यूक्रेन के पांच रूसी विमान और कई टैंक ध्वस्त करने के दावे नकार दिया है। रूसी सेना का चेर्नोबिल परमाणु संयंत्र पर कब्जा हो गया है।

मिसाइलों के हमले हुए और सीमावर्ती शहरों में लड़ाकू विमानों के हमले

रूसी हमले का शुरुआती निशाना यूक्रेन के सैन्य ठिकाने बने। चंद घंटों में ही यूक्रेन के 74 सैन्य ठिकानों और 11 एयरबेस को रूसी हवाई हमलों ने ध्वस्त कर दिया। इस दौरान राजधानी कीव पर मिसाइलों के हमले हुए और सीमावर्ती शहरों में लड़ाकू विमानों के हमले। देर रात तक हमले जारी रहे। यूक्रेन ने छह हमलावर विमानों और हेलीकाप्टरों को मार गिराने का दावा किया है, लेकिन रूस ने इस दावे को नकार दिया है। यूक्रेन ने रूसी हमले में 40 लोगों के मारे जाने और सैकड़ों के घायल होने की पुष्टि की है।

डोनबास, बेलारूस और काला सागर से यूक्रेन पर हमला किया

कीव की ओर बढ़ रही रूसी सेना ने चर्चित चेर्नोबिल परमाणु संयंत्र पर कब्जा कर लिया है। रूस ने विद्रोहियों के कब्जे वाले डोनबास, बेलारूस और काला सागर से यूक्रेन पर हमला किया है।अमेरिकी राजनयिक के रूसी निष्कासन के बदले वाशिंगटन में रूस के दूसरे क्रम के राजनयिक को निष्कासित कर दिया गया। इस निष्कासन का यूक्रेन पर रूसी हमले से संबंध नहीं है।

यह भी पढ़े —यूक्रेन राजदूत इगोर पोलिखा ने हालात को सामान्‍य बनाने के लिए भारत से मांगा समर्थन

वाशिंगटन और मास्को के बीच लंबे समय से चल रहे आ रहे विवाद का हिस्सा

यह कार्रवाई दूतावास के कर्मचारियों पर वाशिंगटन और मास्को के बीच लंबे समय से चल रहे आ रहे विवाद का हिस्सा है। इस बारे में विदेश विभाग ने बुधवार को रूसी दूतावास को सूचित किया था कि वह मंत्री काउंसलर सर्गेई ट्रेपेलकोव को निष्कासित कर रहा है। जो वर्तमान में राजदूत अनातोली एंटोनोव के तहत मिशन में नंबर दो हैं। रूस ने फरवरी के मध्य में मास्को से अमेरिकी मिशन उप प्रमुख बार्ट गोर्मन को निष्कासित कर दिया था।

और ज्यादा खबरे पढ़ने और जानने के लिए ,अब आप हमे सोशल मीडिया पर भी फॉलो कर सकते है –
ट्विटर पर फॉलो करने के लिए टाइप करे – @khas_khabar एवं न्यूज़ पढ़ने के लिए #khas_khabar फेसबुक पर फॉलो करने के लाइव आप हमारे पेज @socialkhabarlive को फॉलो कर सकते है|