राष्ट्रीय

सिस्टर अभया मर्डर:28 साल पहले हुए मर्डर केस पर अब मिलेगी सजा,आपत्तिजनक हालत में देखा तो कुल्हाड़ी से किया था वार

Khaskhabar/सिस्टर अभया मर्डर:28 साल पहले हुए सिस्टर अभया मर्डर केस (Sister Abhaya Murder Case) में आज (मंगलवार) फैसला सुनाया जाएगा. जब सिस्टर अभया की हत्या की गई तब उनकी उम्र केवल 19 साल ही थी. मंगलवार को केंद्रीय जांच ब्यूरो (CBI) कोर्ट तमिलनाडु के तिरुवनंतपुरम में सिस्टर अभया मर्डर केस (Sister Abhaya Murder Case) में आरोपियों सजा सुना सकती है.

Khaskhabar/सिस्टर अभया मर्डर:28 साल पहले हुए सिस्टर अभया मर्डर केस (Sister Abhaya Murder Case) में आज (मंगलवार) फैसला सुनाया जाएगा. जब सिस्टर अभया की हत्या की गई तब उनकी उम्र केवल 19 साल ही थी
Posted by khaskhabar

बता दें कि 28 साल पहले 27 मार्च 1992 को केरल में कोट्टायम के सेंट पायस कॉन्वेंट (Pius X Convent) में 19 साल की सिस्टर अभया की डेडबॉडी कुएं से बरामद हुई थी. सिस्टर अभया की हत्या का आरोप कोट्टूर, पूथरुकायिल और सेफी पर लगा था.

29 मार्च, 1993 को सिस्टर अभया मर्डर केस सीबीआई (CBI) को सौंप दिया गया.

Khaskhabar/सिस्टर अभया मर्डर:28 साल पहले हुए सिस्टर अभया मर्डर केस (Sister Abhaya Murder Case) में आज (मंगलवार) फैसला सुनाया जाएगा. जब सिस्टर अभया की हत्या की गई तब उनकी उम्र केवल 19 साल ही थी
Posted by khaskhabar

शुरुआती जांच में केरल (Kerala) पुलिस और राज्य की अपराध शाखा ने सिस्टर अभया मर्डर केस (Sister Abhaya Murder Case) को आत्महत्या करार देकर फाइल को बंद कर दिया था. लेकिन ह्यूमन राइट एक्टिविस्ट जोमोन पुथेनपुराकल की कानूनी लड़ाई के चलते 29 मार्च, 1993 को सिस्टर अभया मर्डर केस (Sister Abhaya Murder Case) सीबीआई (CBI) को सौंप दिया गया.

कैथोलिक फादर थॉमस कोट्टूर और सिस्टर सेफी के खिलाफ चार्जशीट दायर

बता दें कि सीबीआई सिस्टर अभया मर्डर केस में कैथोलिक फादर थॉमस कोट्टूर और सिस्टर सेफी के खिलाफ चार्जशीट दायर कर चुकी है. इन दोनों के खिलाफ हत्या, सबूत मिटाने और साजिश रचने का आरोप है. इसके अलावा एक अन्य फादर जोश पूथरुकायिल को सबूतों के अभाव में कोर्ट ने बरी कर दिया था.

साल 2007 में सीबीआई (CBI) ने तीनों आरोपियों का नार्को टेस्ट भी करवाया था. हालांकि बाद में कहा गया कि इस रिपोर्ट से छेड़छाड़ की गई. फिर साल 2008 में सीबीआई ने चार्जशीट दायर की. इसके बाद साल 2008 के नवंबर महीने में तीनों आरोपियों को अरेस्ट किया गया. हालांकि, एक महीने के बाद आरोपी फादर और नन को जमानत मिल गई.

यह भी पढ़े—बायोटेक का दावा, कोरोना वायरस के नए स्‍ट्रेन के म्यूटेशन को खत्म करने वाली वैक्सीन 6 हफ्ते में बना लेंगे

कैसे हुई सिस्टर अभया की हत्या

सीबीआई (CBI) की चार्जशीट के मुताबिक, वारदात के दिन सिस्टर अभया एक परीक्षा के लिए सुबह जल्दी उठ गईं. उस वक्त सुबह का करीब चार बजा था. जब वो पानी लेने के लिए किचन में गईं तो वहां 2 पादरियों और 1 नन को आपत्तिजनक हालत में पाया. वहां फादर जोस पूथरुकायिल और फादर थॉमस कुट्टूर सिस्टर सेफी के साथ मौजूद थे.

आरोपियों ने सिस्टर अभया को इस डर से मार दिया कि वो ये बात कहीं किसी को बता ना दें. तीनों ने मिलकर सिस्टर अभया पर हमला कर दिया, जिसके बाद वो बेहोश हो गईं. बाद में सिस्टर अभया का शव कुएं में डाल दिया.

और ज्यादा खबरे पढ़ने और जाने के लिए ,अब आप हमे सोशल मीडिया पर भी फॉलो कर सकते है –
ट्विटर पर फॉलो करने के लिए टाइप करे – @khas_khabar एवं न्यूज़ पढ़ने के लिए #khas_khabar फेसबुक पर फॉलो करने के लाइव आप हमारे पेज @socialkhabarlive को फॉलो कर सकते है |