राष्ट्रीय

लॉकडाउन में चार्टर्ड प्लेन से घूमने वाले ओडिशा वन अधिकारी पर जांच एजेंसियों का शिकंजा,अकूत संपत्ति देख हैरान

Khaskhabar/लॉकडाउन में चार्टर्ड प्लेन से घूमने वाले ओडिशा के एक वन अधिकारी पर जांच एजेंसियों ने शिकंजा कसना शुरू कर दिया है। बताया जा रहा है कि वन अधिकारी ने अपने परिवार के साथ एक बार नहीं बल्कि 20 बार चार्टर्ड प्लेन से पटना, मुंबई, दिल्ली और पुणे की यात्रा की थी। एक केंद्रीय एजेंसी ने ओडिशा सरकार को वन अधिकारी की इन यात्राओं के बारे में बताया था।

Khaskhabar/लॉकडाउन में चार्टर्ड प्लेन से घूमने वाले ओडिशा के एक वन
Posted by khaskhabar

इसके बाद बुधवार को भुवनेश्वर, मुंबई, पुणे, बिहार और राजस्थान में एक साथ छापेमारी की गई, ताकि 58 साल के वन विभाग में तैनात अडिशनल प्रिंसिपल चीफ कन्जर्वेटर अभयकांत पाठक की संपत्तियों का पता लगाया जा सके। पाठक साल 1987 बैच के आईएफएस अधिकारी हैं। एक जांच अधिकारी ने बताया कि पाठक के भुवनेश्वर स्थिति क्वॉर्टर्स और ऑफिस में सर्च ऑपरेशन चलाया गया।

Khaskhabar/लॉकडाउन में चार्टर्ड प्लेन से घूमने वाले ओडिशा के एक वन
Posted by khaskhabar

अपनी आखिरी चार्टर्ड फ्लाइट की यात्रा के दौरान रडार पर आ गए थे। उन्होंने 13 सितंबर को पत्नी, बेटे और परिवार के अन्य सदस्यों के साथ पुणे तक की यात्रा की थी। इसके पहले भी पाठक मुंबई, पुणे, दिल्ली, पटना आदि चार्टर्ड फ्लाइट से जा चुके थे। अधिकारियों का कहना है कि उनकी इन्हीं यात्राओं को देखने के बाद केंद्रीय टीम को उनकी संपत्ति को लेकर कुछ शक हुआ और वे टीम की नजर में आ गए।

बंगला देख दंग रहे गए जांच अधिकारी

आईएफएस अधिकारी का भुवनेश्वर स्थित बंगला देखकर विजिलेंस विभाग के अधिकारी दंग रह गए। वे आश्चर्य जता रहे हैं कि आखिर कैसे कोई आईएफएस अधिकारी जिसकी सैलरी 2.70 लाख हो, वह भुवनेश्वर में आठ हजार स्क्वायर फीट का बंगला अफॉर्ड कर सकता है। इस बंगले में इटैलियन मार्बल के साथ-साथ लाखों रुपये का बेड भी है।

डेंटिस्ट और ड्राइवर के पास से बरामद किए लाखों रुपये

भुवनेश्वर स्थित घर पर छापा मारने आई टीम ने आईएफएस अधिकारी के डेंटिस्ट और ड्राइवर के पास से लाखों रुपये बरामद किए हैं। अधिकारियों को छापे के दौरान उसके डेंटिस्ट के पास से 50 लाख रुपये कैश और उसके ड्राइवर के पास से 20 लाख रुपये कैश मिले। वहीं, अधिकारी के घर से आधा किलो सोना और 10 लाख कैश भी मिला है। विजिलेंस विभाग के अधिकारियों का कहना है कि पाठक के बेटे के बैंक खातों में लगभग 9.4 करोड़ रुपये की नकदी जमा की गई थी, जिसमें से लगभग 8.4 करोड़ रुपये अकेले भुवनेश्वर के बैंकों में थे।

यह भी पढ़े— किसान आंदोलन में 6 घंटे फंसी रही दिल्ली जा रही बारात,लॉकडाउन में भी शादी हो गई थी कैंसिल

लॉकडाउन:बेटे के लिए लगा रखे थे बॉडीगॉर्ड्स

इसके अलावा उनके कुछ रिश्तेदारों के यहां भी छापेमारी की गई। अधिकारी ने कहा कि छापेमारी के दौरान काफी मात्रा में कैश और दस्तावेज जब्त किए गए हैं। उनकी संपत्ति की पूरी कीमत सब कुछ समेटे जाने के बाद सामने आ पाएगी। अधिकारी ने बताया कि जांच के दौरान पता चला कि पाठक ने अपने बेटे और खुद के लिए चार प्राइवेट बॉडीगॉर्ड रखे हैं। हर बॉडीगॉर्ड को 50 हजार रुपये प्रति महीने सैलरी दी जाती है।

और ज्यादा खबरे पढ़ने और जाने के लिए ,अब आप हमे सोशल मीडिया पर भी फॉलो कर सकते है –
ट्विटर पर फॉलो करने के लिए टाइप करे – @khas_khabar एवं न्यूज़ पढ़ने के लिए #khas_khabar फेसबुक पर फॉलो करने के लाइव आप हमारे पेज @socialkhabarlive को फॉलो कर सकते है |