कारोबार राष्ट्रीय

यूपी शिक्षक भर्ती फर्जीवाड़ा : विभा बनकर बरसों तक नौकरी करती रही शैलजा, अब जाकर हुआ खुलाशा

Khaskhabar/यूपी (गाजीपुर)शिक्षक भर्ती फर्जीवाड़ा :शिक्षा विभाग में फर्जी दस्तावेजों और नामों की आड़ में नौकरी करने के कई मामले पिछले दिनों सामने आए हैं। कस्तूरबा गांधी आवासीय बालिका विद्यालय की अनामिका शुक्ला के मामले ने प्रदेश के बेसिक शिक्षा विभाग की कार्यशैली पर सवालिया निशान खड़ा कर दिया था। इसके बाद से लगातार एक-एक कर फर्जीवाड़े के मामले सामने आ रहे हैं। गाजीपुर से भी एक ऐसा ही फर्जीवाड़ा सामने आया है।

Khaskhabar/यूपी (गाजीपुर)शिक्षक भर्ती फर्जीवाड़ा :शिक्षा विभाग में फर्जी
Posted by Khaskhabar

यूपी:विज्ञान गणित शिक्षक भर्ती में चयनित होने के बाद फर्जी विभा सिंह उर्फ शैलजा की तैनाती

बेसिक शिक्षा विभाग की जांच में दोषी पाए जाने पर नकली विभा सिंह उर्फ शैलजा को नोटिस जारी कर एक सप्ताह के अंदर अपना पक्ष रखने को कहा गया है। जवाब ना मिलने की सूरत में कार्रवाई करने का निर्देश भी दिया गया है। इसमें उनको नौकरी से निकालने और सैलरी की रिकवरी भी शामिल है। इसके साथ उन्होंने बताया कि विभाग में यह अकेले का मामला नहीं है बल्कि और भी दो-तीन ऐसे मामले हैं, जिसकी जांच चल रही है।

यह भी पढ़े —चीन के कर्ज के तले दबे मालदीव के मदद को आगे आया भारत, दी 1840 करोड़ रूपए की आर्थिक मदद

कुछ ही दिनों में इसकी रिपोर्ट आ जाने पर उनके खिलाफ भी कार्रवाई की जाएगी।बेसिक शिक्षा अधिकारी गाजीपुर श्रवण कुमार गुप्ता ने बताया कि साल 2015 में हुई विज्ञान गणित शिक्षक भर्ती में चयनित होने के बाद फर्जी विभा सिंह उर्फ शैलजा की तैनाती उच्च प्राथमिक विद्यालय ताजपुर में हुई।तभी से वह वहीं अध्यापन कर रही थीं।

यूपी:विभा सिंह बनकर कर रही थीं नौकरी

बाराचवर ब्लॉक के एक विद्यालय में बलिया की रहने वाली शैलजा कई वर्षों से विभा सिंह बनकर नौकरी कर रही थीं। बेसिक शिक्षा के अधिकारी को एसटीएफ से निर्देश मिले, जिसके बाद इस मामले की तह तक पहुंच जा सका। जांच से पता चला कि असली विभा सादात ब्लॉक जनपद गाजीपुर के अकबरपुर की रहने वाली हैं। वह वर्तमान में वाराणसी में रहती हैं।

यह भी पढ़े — कृषि बिधेयक बिलों के विरोध में पंजाब से दिल्ली आ रहे किसान, दोनों राज्यों की पुलिस हाई-अलर्ट पर

शैलजा ने शिक्षक भर्ती में आवेदन किया था लेकिन मेरिट में नहीं आ पाईं। इसके बाद शैलजा ने विभा सिंह के सभी डॉक्युमेंट्स (हाईस्कूल , इंटरमीडिएट ,स्नातक के साथ ही टीईटी का सर्टिफिकेट) की फर्जी कॉपी बनवा ली। फिर वह खुद को विभा सिंह होने का दावा करने लगीं। यही नहीं, शैलजा ने निवास व अनुसूचित जाति प्रमाण पत्र और आधार कार्ड भी फर्जी तरीके से हासिल किया।

और ज्यादा खबरे पढ़ने और जाने के लिए ,अब आप हमे सोशल मीडिया पर भी फॉलो कर सकते है –
ट्विटर पर फॉलो करने के लिए टाइप करे – @khas_khabar एवं न्यूज़ पढ़ने के लिए #khas_khabar फेसबुक पर फॉलो करने के लाइव आप हमारे पेज @socialkhabarlive को फॉलो कर सकते है |