फिल्म जगत

बंगाली अभिनेता सौमित्र चटर्जी की हालत नाजुक कोरोना वायरस से लड़ रहे हैं जंग,100 से अधिक फिल्मों में कर चुके है काम

Khaskhabar/प्रख्यात बंगाली अभिनेता सौमित्र चटर्जी (Bengali actor Soumitra Chatterjee) की हालत पिछले 48 घंटों से चिंताजनक बनी हुई है और सोमवार को जारी किए गए स्वास्थ्य रिपोर्ट के अनुसार वह अभी भी खतरे से बाहर नहीं है।बुलेटिन में कहा गया, उनको बुखार है और वह सुस्त और विभ्रम की स्थिति में हैं, जो चिंताजनक है। हालांकि उनका ऑक्सीजन स्तर थोड़ा बढ़ा है लेकिन अभी भी वह खतरे की स्थिति से बाहर नहीं है। उनके लिए अभी तक जीवन रक्षक प्रणाली की मदद नहीं ली गई है, लेकिन अगर स्थिति में सुधार नहीं आता है, तो इसकी आवश्यकता पड़ सकती है।

Khaskhabar/प्रख्यात बंगाली अभिनेता सौमित्र चटर्जी (Bengali actor
Posted by khaskhabar

गौरतलब है कि कोविड एन्सेफैलोपैथी से पीड़ित चटर्जी 6 अक्टूबर से यहां एक निजी अस्पताल में भर्ती हैं। उन्हें बीते शुक्रवार की रात आईसीयू में स्थानांतरित किया गया था। अस्पताल के सूत्रों के मुताबिक चटर्जी को रविवार को प्लाज्मा थेरेपी दी गई थी।

12 डॉक्टर्स की टीम उनके पिता का इलाज कर रही

सौमित्र की बेटी ने इस बारे में जानकारी दी थी।सौमित्र की बेटी पॉलोमी चटर्जी ने बताया है कि 12 डॉक्टर्स की टीम उनके पिता का इलाज कर रही है। बता दें कि 85 वर्षीय सौमित्र को कोरोना संक्रमित पाए जाने पर तुरंत कॉलकाता के मिंटो पार्क स्थित बेलव्यू अस्पताल में भर्ती कराया गया जहां लगातार उनका इलाज चल रहा है।

Khaskhabar/प्रख्यात बंगाली अभिनेता सौमित्र चटर्जी (Bengali actor
Posted by khaskhabar

यह भी पढ़े—Parle-G ने बजाज की रह पर चलते हुए न्यूज चैनलों को विज्ञापन न देने का लिया फैसला, तो स्वरा भास्कर का यूं आया रिएक्शन

गौरतलब है कि सौमित्र चटर्जी की गिनती बंगाल के सबसे बड़े अभिनेताओं में होती है। उन्होंने ऑस्कर विजेता फिल्मकार सत्यजीत रे के साथ 14 फिल्में की हैं। सौमित्र चटर्जी ने 1955 में सत्यजीत रे की फिल्म ‘अपूर संसार’ से ही फिल्मों में कदम रखा था। सौमित्र चटर्जी को फिल्मों में उनके अमूल्य योगदान के लिए 2012 में दादा साहेब फालके पुरस्कार से सम्मानित किया गया था।

दादा साहेब फाल्के पुरस्कार से सम्मानित

उल्लेखनीय है कि 85 वर्षीय चटर्जी को वर्ष 2012 में दादा साहेब फाल्के पुरस्कार से सम्मानित किया गया था। अपने करियर में 100 से अधिक फिल्मों में काम करने वाले चटर्जी को भारत सरकार ने 2004 में पद्म भूषण से सम्मानित किया था।

और ज्यादा खबरे पढ़ने और जाने के लिए ,अब आप हमे सोशल मीडिया पर भी फॉलो कर सकते है –
ट्विटर पर फॉलो करने के लिए टाइप करे – @khas_khabar एवं न्यूज़ पढ़ने के लिए #khas_khabar फेसबुक पर फॉलो करने के लाइव आप हमारे पेज @socialkhabarlive को फॉलो कर सकते है |

mitti bachao andolan:save the soil movement ko मिट्टी बचाओ अभियान के रूप में जाना जाता है, आंदोलन को मध्य प्रदेश में तवा बांध की वजह से जलभराव और खारापन के खिलाफ 1977 में शुरू किया गया था। अभियान ने स्थानीय किसानों को प्रभावित भूमि के मुआवजे की मांग करने के लिए जुटाया।