राष्ट्रीय

फेक टीआरपी केस में रिपब्लिक टीवी के CEO विकास खानचंदानी को मुंबई पुलिस ने गिरफ्तार किया

Khaskhabar/फेक टीआरपी केस में मुंबई पुलिस (Mumbai Police) ने बड़ी कार्रवाई की है और क्राइम ब्रांच ने रिपब्लिक टीवी (Republic TV) के सीईओ विकास खानचंदानी (Vikas Khanchandani) को गिरफ्तार किया है. बता दें कि फर्जी टीआरपी मामले में विकास खानचंदानी से मुंबई पुलिस पहले कई बार पूछताछ कर चुकी है. बता दें कि फर्जी टीआरपी मामले में विकास खानचंदानी से मुंबई पुलिस पहले कई बार पूछताछ कर चुकी है.

फेक टीआरपी केस में मुंबई पुलिस (Mumbai Police) ने बड़ी कार्रवाई की है और
Posted by khaskhabar

ब्राडकास्ट ऑडियंस रिसर्च काउंसिल (बार्क) ने हंसा रिसर्च ग्रुप

इससे पहले वरिष्ठ पत्रकार और चैनल के प्रधान संपादक अर्नब गोस्वामी को भी मुंबई पुलिस ने एक पुराने केस में गिरफ्तार किया था. हालांकि बाद में उन्हें कोर्ट ने जमानत दे दी थी.टीआरपी घोटाला का यह मामला गत अक्टूबर में सामने आया। ब्राडकास्ट ऑडियंस रिसर्च काउंसिल (बार्क) ने हंसा रिसर्च ग्रुप के जरिए अपनी शिकायत में आरोप लगाया की टीआरपी के साथ छेड़छाड़ में कुछ टेलीविजन चैनल शामिल हैं। मुंबई क्राइम ब्रांच के अधिकारियों ने विकास की गिरफ्तारी की पुष्टि की है। उन्होंने कहा कि रविवार तड़के खानचंदानी को गिरफ्तार किया और उन्हें रविवार दोपहर बाद कोर्ट में पेश किया जाएगा।

फेक टीआरपी केस में मुंबई पुलिस (Mumbai Police) ने बड़ी कार्रवाई की है और
Posted by khaskhabar

खानचंदानी मामले में 13वें आरोपी

पुलिस का कहना है कि खानचंदानी मामले में 13वें आरोपी हैं। वह घोटाले के लाभार्थी हैं और उन्हें इस घोटाले के बारे में जानकारी थी। इससे पहले सेशन कोर्ट ने पिछले सप्ताह रिपब्लिक टीवी के सीओओ प्रिया मुखर्जी को अंतरिम.कोर्ट ने मुखर्जी को 50 हजार रुपए का निजी मुचलका भरने और सप्ताह में एक दिन संबंधित पुलिस थाने में हाजिरी लगाने का आदेश दिया। पुलिस ने टीआरोपी घोटाले में अभी तक 12 लोगों को गिरफ्तार किया है।

यह भी पढ़े—अजीबोगरीब तस्वीरें ऑनलाइन पोस्ट करने पर मिली सजा,19 साल की इंस्टाग्राम स्टार को 10 साल की जेल

क्या है टीआरपी (TRP) घोटाला

बता दें कि टेलीविजन रेटिंग प्वाइंट (TRP) के घोटाले को लेकर इस साल अक्टूबर में खुलासा हुआ था, जब रेटिंग एजेंसी ब्रॉडकास्ट ऑडियंस रिसर्च काउंसिल (BARC) ने हंसा रिसर्च ग्रुप (Hansa Research Group) के जरिए एक शिकायत दर्ज करवाई थी, जिसमें आरोप लगाया गया था कि कुछ टेलीविजन चैनल टीआरपी (TRP) के आंकड़ों में हेरफेर कर रहे हैं. इस मामले में पुलिस ने कहा था कि रिपब्लिक टीवी और कुछ अन्य चैनलों को देखने के लिए रिश्वत दी जा रही थी, हालांकि रिपब्लिक टीवी ने आरोपों से साफ इनकार किया था.

और ज्यादा खबरे पढ़ने और जाने के लिए ,अब आप हमे सोशल मीडिया पर भी फॉलो कर सकते है –
ट्विटर पर फॉलो करने के लिए टाइप करे – @khas_khabar एवं न्यूज़ पढ़ने के लिए #khas_khabar फेसबुक पर फॉलो करने के लाइव आप हमारे पेज @socialkhabarlive को फॉलो कर सकते है |