राष्ट्रीय

प्रधानमंत्री ने कोरोना पर रणनीति को लेकर 8 राज्यों के मुख्यमंत्रियों के साथ वीडियो कॉन्फ्रेंस के जरिए बैठक की

Khaskhabar/वीडियो कॉन्फ्रेंस के जरिए बैठक की मुख्यमंत्री श्री विजय रूपाणी ने गुजरात में कोरोना संक्रमण के खिलाफ सरकार की तैयारी और गहन स्वास्थ्य सेवाओं के संबंध में प्रधानमंत्री को दी जानकारी |

  1. राज्य में उपलब्ध कुल 55 हजार आइसोलेशन बेड का 82 फीसदी यानी 45 हजार बेड अभी भी खाली
  2. 104 हेल्पलाइन सेवा का 2.78 लाख से अधिक लोगों ने उठाया लाभ
  3. 1700 धन्वंतरि रथ के जरिए लोगों को दहलीज पर मिली ओपीडी सेवाएं
  4. देशभर में गुजरात की अनोखी पहल ‘संजीवनीः कोरोना घर सेवा’ के तहत
  5. अहमदाबाद में 700 संजीवनी रथों के मार्फत तीन हजार कॉल अटैंड किए
  6. अहमदाबाद में 125 से अधिक कियोस्क और 74 शहरी स्वास्थ्य केंद्र में कोरोना टेस्ट प्रक्रिया लगातार जारी

प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी ने देश में कोरोना संक्रमण के बढ़ते मामलों तथा
राज्यों द्वारा संक्रमण नियंत्रण और उपचार सुविधा की तैयारियों का जायजा लेने
और मार्गदर्शन देने के लिए देश के 8 राज्यों के मुख्यमंत्रियों के साथ मंगलवार को
वीडियो कॉन्फ्रेंस बैठक बुलाई। इस बैठक में केंद्रीय गृह मंत्री श्री अमित शाह भी
मौजूद थे।

Khaskhabar/प्रधानमंत्री के साथ वीडियो कॉन्फ्रेंस के जरिए बैठक की मुख्यमंत्री श्री
Posted by khaskhabar

केंद्रीय गृह मंत्री श्री अमित शाह भी मौजूद

मुख्यमंत्री श्री विजय रूपाणी ने बैठक में गांधीनगर से शिरकत करते हुए
गुजरात में दिवाली के त्यौहारों के बाद बढ़े कोरोना संक्रमण के मामलों से निपटने क
लिए राज्य सरकार की स्वास्थ्य सुविधाओं एवं उपचार व्यवस्था की विस्तृत जानकारी प्रधानमंत्री को दी।मुख्यमंत्री ने यह साफ किया कि कोरोना के बढ़ते मामलों के मद्देनजर राज्य सरकार ने अहमदाबाद और अन्य शहरों में कोविड बेड की संख्या में बढ़ोतरी कर दी है।

Khaskhabar/प्रधानमंत्री के साथ वीडियो कॉन्फ्रेंस के जरिए बैठक की मुख्यमंत्री श्री
Posted by khaskhabar

राज्य में किसी भी संक्रमित व्यक्ति को बेड के अभाव में उपचार से वंचित न रहना पड़े उस मकसद से सरकार ने संपूर्ण व्यवस्थाएं की हैं।उन्होंने कहा कि पूरे राज्य में लगभग 55 हजार आइसोलेश बेड उपलब्ध हैं। इनमें से 82 फीसदी यानी कि करीब 45 हजार बेड अभी भी खाली अर्थात संक्रमितों के लिए आसानी से उपलब्ध हैं।

108 एंबुलेंस सेवाओं को और भी प्रभावी बनाया

श्री रूपाणी ने कहा कि कोरोना संक्रमित मरीजों को हॉस्पिटल में भर्ती करने
में विलंब ना हो और त्वरित भर्ती करवाकर उनका उपचार शुरू हो सके उसके लिए
108 एंबुलेंस सेवाओं को और भी प्रभावी बनाया है।यही नहीं, संक्रमित मरीज के हॉस्पिटल पहुंचने से पहले ही उसके लिए बेड,चिकित्सक और स्वास्थ्य सेवाएं तैयार रखे जाते हैं ताकि उपचार में कोई देरी ना हो।गुजरात ने 104 फीवर हेल्पलाइन का जो प्रयोग सफलतापूर्वक अपनाया है,उसका ब्यौरा भी उन्होंने इस बैठक में दिया।

मुख्यमंत्री ने कहा कि इस सेवा के अंतर्गत लोगों को घर बैठे ही कोविड के
संबंध में परामर्श तथा स्वास्थ्य सेवाएं मुहैया कराई जाती है। राज्य में अब तक
2.78 लाख लोगों ने 104 हेल्पलाइन का लाभ उठाया है।मुख्यमंत्री ने राज्य में सामान्य और सामुदायिक निगरानी के लिए टीमों की संख्या में बढ़ोतरी करने के साथ ही कोविड से ज्यादा प्रभावित क्षेत्रों में धन्वंतरि रथ की संख्या भी 1100 से बढ़ाकर 1700 करने की जानकारी प्रधानमंत्री को दी। उन्होंने कहा कि यह धन्वंतरि रथ लोगों को घर की दहलीज पर ही ओपीडी सेवाएं उपलब्ध कराता है। सर्दी, खांसी, बुखार, ब्लडप्रेशर और डायबिटीज के मरीजों को इस रथ के जरिए उपचार सेवा प्रदान की जाती है।

इस संदर्भ में उन्होंने कहा कि कल यानी सोमवार को एक ही दिन में 1 लाख 52 हजार लोगों ने धन्वंतरि रथ सेवा का लाभ उठाया है।श्री रूपाणी ने राज्य में टेस्टिंग प्रक्रिया को और गहन बनाने की जानकारी देते हुए कहा कि आरटी-पीसीआर और एंटीजन टेस्टिंग का दायरा बढ़ाया गया है। सोमवार, 23 नवंबर को एक ही दिन में राज्य में 70 हजार टेस्ट किए गए हैं। मुख्यमंत्री ने कहा कि अहमदाबाद महानगर में कोरोना प्रभावितों के लिए होम आइसोलेशन की व्यवस्था के तहत ‘संजीवनीः कोरोना घर सेवा’ की शुरुआत
की है। उन्होंने कहा कि ऐसे 700 संजीवनी रथ के मार्फत प्रतिदिन लगभग 3 हजार
कॉल पर योग्य कार्यवाही की जाती है।

संक्रमितों को घर पर ही रहते हुए उपचार सुविधा मिलती है

उन्होंने कहा कि यह देशभर में एक ऐसी विशेष सेवा है जिसमें डॉक्टर और
पैरामेडिकल स्टाफ होम आइसोलेशन में रहने वाले संक्रमितों की नियमित रूप से
देखभाल करते हैं। इसके फलस्वरूप संक्रमितों को घर पर ही रहते हुए उपचार सुविधा मिलती है।

इतना ही नहीं, गंभीर स्थिति वाले मरीजों के लिए हॉस्पिटलों में बेड भी आसानी से उपलब्ध हैं। मुख्यमंत्री ने बैठक में यह भी कहा कि अहमदाबाद महानगर में सवा सौ से अधिक कियोस्क और 74 अर्बन हेल्थ सेंटर में कोरोना टेस्ट की प्रक्रिया लगातार जारी है। इसके अलावा, हाइवे, रेलवे स्टेशन और बड़े कॉमर्शियल कॉम्प्लेक्स में भी बड़ी संख्या में कोरोना टेस्ट किए जाते हैं।उन्होंने कहा कि अहमदाबाद में अब तक 11 लाख टेस्ट इन सभी माध्यमों के उपयोग से किए गए हैं।

यह भी पढ़े—Ahmed Patel:मैंने एक कॉमरेड, सहकर्मी और दोस्त खो दिया,निधन पर शोक व्यक्त करते हुए सोनिया ने कहा

वडील सुखाकारी सेवा’ की जानकारी से प्रधानमंत्री को अवगत कराया

श्री रूपाणी ने अहमदाबाद में वरिष्ठ नागरिकों को कोविड संक्रमण से सुरक्षित रखने और बेहतर इलाज के लिए शुरू किए गए ‘वडील सुखाकारी सेवा’ के अभिनव प्रयोग की जानकारी से प्रधानमंत्री को अवगत कराया। उन्होंने कहा कि इस सेवा के तहत वरिष्ठ नागरिकों की नियमित जांच कर जरूरी दवाइयां प्रदान की जाती हैं। 18 हजार से अधिक बुजुर्गों ने इस सेवा का लाभ भी प्राप्त किया है। मुख्यमंत्री ने यह भी जानकारी दी कि कोरोना मामलों में अचानक हुई वृद्धि के खिलाफ सतर्कता बरतते हुए अहमदाबाद, वडोदरा, राजकोट और सूरत महानगर में रात्रि कर्फ्यू लागू किया गया है। श्री विजय रूपाणी ने प्रधानमंत्री को भरोसा दिलाया कि बढ़ते संक्रमण की रोकथाम के लिए राज्य सरकार पूरी तरह से तैयार है।

वीडियो कॉन्फ्रेंस:इस चरण में भी कोरोना संक्रमण के बढ़ते दायरे पर नियंत्रण हासिल करने में सफल होंगे

उन्होंने दृढ़ विश्वास व्यक्त करते हुए कहा कि प्रधानमंत्री के मार्गदर्शन और नेतृत्व में जिस तरह पहले कोरोना पर नियंत्रण पाया था, उसी तरह अब इस चरण में भी कोरोना संक्रमण के बढ़ते दायरे पर नियंत्रण हासिल करने में सफल होंगे। इस वीडियो कॉन्फ्रेंस बैठक में उप मुख्यमंत्री श्री नितिनभाई पटेल, मुख्य सचिव श्री अनिल मुकीम, मुख्यमंत्री के मुख्य प्रधान सचिव श्री के. कैलाशनाथन सहित वरिष्ठ अतिरिक्त मुख्य सचिव और सचिव जुड़े थे।

और ज्यादा खबरे पढ़ने और जाने के लिए ,अब आप हमे सोशल मीडिया पर भी फॉलो कर सकते है –
ट्विटर पर फॉलो करने के लिए टाइप करे – @khas_khabar एवं न्यूज़ पढ़ने के लिए #khas_khabar फेसबुक पर फॉलो करने के लाइव आप हमारे पेज @socialkhabarlive को फॉलो कर सकते है |