धर्म

पुरुषोत्तम एकादशी का व्रत करने से मिलता है सभी एकादशी व्रत का पुण्य, महाभारत में इसे सुमद्रा एकादशी कहा गया

Khaskhabar/पुरुषोत्तम एकादशी:प्रत्येक तीसरे वर्ष पुरुषोत्तम मास में पड़ने वाली पुरुषोत्तम एकादशी 27 सितंबर, रविवार को है। जिसे कमला एकादशी भी कहते हैं। पुरुषोत्तम महीने के शुक्लपक्ष में पड़ने वाली एकादशी को पुरुषोत्तम एकादशी कहते हैं। ये नाम पद्मपुराण में बताया गया है। वहीं, महाभारत में इसे सुमद्रा एकादशी कहा गया है। इसके अलावा आमतौर पर इसे पद्मिनी एकादशी भी कहा गया है।

Khaskhabar/पुरुषोत्तम एकादशी:प्रत्येक तीसरे वर्ष पुरुषोत्तम मास में पड़ने वाली
Posted by khaskhabar

इस तिथि को भगवान श्रीकृष्ण ने उत्तम तिथियों में से एक कहा है जिसका व्रत करने से श्रीमहालक्ष्मी जी की अनुकूल कृपा प्राप्त होती है। इस दिन घर में जप करने का एक गुना, गौशाला में जप करने पर सौ गुना, पुण्य क्षेत्र तथा तीर्थ में हजारों गुना, तुलसी के समीप जप-तथा जनार्दन की पूजा करने से लाखों गुना, शिव तथा विष्णु के क्षेत्रों में करने से करोड़ों गुना फल प्राप्त होता है।

3 साल में आने वाली यह एकादशी बहुत ही खास होती है। इस दिन भगवान विष्णु की पूजा और व्रत-उपवास करने से ही हर तरह के पाप खत्म हो जाते हैं। इस व्रत से सालभर की एकादशियों का पुण्य मिल जाता है। हिन्दू कैलेंडर के मुताबिक पुरुषोत्तम एकादशी व्रत अधिकमास में आता है। भगवान विष्णु के महीने में होने से ये व्रत और भी खास हो जाता है। इस एकादशी के बारे में सबसे पहले ब्रह्मा जी ने नारद जी को बताया था फिर श्रीकृष्ण ने युधिष्ठिर को इसका महत्व बताया।

Khaskhabar/पुरुषोत्तम एकादशी:प्रत्येक तीसरे वर्ष पुरुषोत्तम मास में पड़ने वाली
Posted by khaskhabar

इस दिन राधा-कृष्ण और शिव-पार्वती की पूजा की जाती है। इस व्रत में दान का खास महत्त्व है। इस दिन मसूर की दाल, चना, शहद, पत्तेदार सब्जियां और पराया अन्न नहीं खाना चाहिए। इस दिन नमक का इस्तेमाल भी नहीं करना चाहिए और कांसे के बर्तन में खाना नहीं खाना चाहिए। वहीं, पूरे दिन कंदमूल या फल खाए जा सकते हैं।

एकादशी शुभ मुहूर्त

  • तिथि आरंभ- 26 सितंबर को शाम 07 बजे
  • तिथि समाप्त- 27 सितंबर को शाम 07:47 बजे
  • पारण मुहूर्त- 28 सितंबर 06:10 से 08:26 तक

एकादशी का महत्व

मलमास भगवान विष्णु का प्रिय माह है। इस माह में पुरुषोत्तम एकादशी का व्रत करने से स्वर्ण दान और हजारों यज्ञ के बराबर फल प्राप्त होता है साथ ही मृत्यु के बाद मोक्षी की भी प्राप्ति होती है। साथ ही यह व्रत मनोरथ पूर्ति के लिए भी शुभ माना जाता है। मान्यता है कि जो भी भक्त भगवान बिष्णु की असीम कृपा प्राप्त करना चाहते हैं, उनको पुरुषोत्तम एकादशी उपवास करना चाहिए।

एकादशी की कथा

विश्वविख्यात भविष्यवक्ता और कुण्डली विश्ल़ेषक अनीष व्यास ने बताया कि पौराणिक मान्यताओं के अनुसार त्रेतायुग में महिष्मती पुरी के कार्तवीर्य नामक राजा राज्य करते थे। राजा कार्तवीर्य बहुत पराक्रम थे और उनकी एक हजार पत्नी थीं लेकिन कोई संतान नहीं थी। उनको चिंता सताने लगी की मेरे बाद इस राज्य को कौन संभालेगा। इस बात को लेकर राजा-रानी काफी परेशान रहते थे। उन्होंने कई कठोर तप और धर्म-कर्म के कार्य किए लेकिन कोई सफलता नहीं मिली।

एक दिन रानी देवी अनुसुया से इसका उपाय पूछा। तब देवी अनुसूया ने मलमास में पड़ने वाली पुरुषोत्तम एकादशी का व्रत करने के लिए कहा। देवी ने बताया कि मलमास भगवान विष्णु का प्रिय माह और इस माह में पड़ने वाली पद्मिनी एकदशी का व्रत करने से सभी इच्छाओं की पूर्ति होती है। राजा और सभी रानियों ने इस व्रत को किया। एकादशी पारण विधि करते समय भगवान प्रकट हुए राजा से वरदान मांगने के लिए तब राजा ने सर्वगुण संपन्न और अपारिज पुत्र की कामना की।

भगवान ने यह वरदान राजा को दे दिया। कुछ समय बाद राजा की एक पत्नी को पुत्र का जन्म हुआए जिसका नाम कार्तवीर्य ने अर्जुन रखा। बताया जाता है कि पूरे संसार में इस उनके जितना कोई बलवान नहीं था। यह बालक आगे चलकर सहस्त्रबाहु कार्तवीर्य अर्जुन के नाम से जाना गया। भगवान श्रीकृष्ण ने युधिष्ठर को इस एकादशी के महत्ता बताते हुए कहा कि मलमास में पड़ने के कारण यह एकदाशी सबसे ज्यादा पवित्र और फलदायी होती है।

व्रत की विधि

एकदाशी के दिन सुबह स्नानादि से निवृत होकर भगवान विष्णु का ध्यान व प्रार्थना करें। इसके बाद व्रत का संकल्प लेना चाहिए। सबसे पहले भगवान विष्णु की मूर्ति या तस्वीर को पीला कपड़ा बिछाकर स्थापित करें और उन पर गंगाजल के छीटें दें और रोल-अक्षत का तिलक लगाएं और सफेद फूल चढ़ाएं। विश्वविख्यात भविष्यवक्ता और कुण्डली विश्ल़ेषक अनीष व्यास ने बताया कि इस दिन सफेद फूल चढ़ाने का विशेष महत्व माना जाता है।

यह भी पढ़े  — PM मोदी ने पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह को दी जन्मदिन की बधाई, ट्वीट करके कही यह बात

इसके बाद भगवान को भोग लगाएं और तुलसी का पत्ता भी अर्पित करें। इसके बाद भगवान के स्तोत्र और मंत्रों का जप करें और विष्णु चालिसा का पाठ करें। फिर देसी घी का दीपक जलाकर जाने-अनजाने हुए पापों की क्षमायाचना करें और फिर उनकी आरती उतारें। गरीब व जरूरतमंद लोगों को दान दें और शाम के समय भी पूजा-पाठ करें। रात में भगवान विष्णु का भजन-कीर्तन करें और द्वादशी तिथि को स्नान करने के बाद भगवान को स्मरण करें और गरीबों को भोजन करवाकर दक्षिणा समेत विदा करें।

और ज्यादा खबरे पढ़ने और जाने के लिए ,अब आप हमे सोशल मीडिया पर भी फॉलो कर सकते है –
ट्विटर पर फॉलो करने के लिए टाइप करे – @khas_khabar एवं न्यूज़ पढ़ने के लिए #khas_khabar फेसबुक पर फॉलो करने के लाइव आप हमारे पेज @socialkhabarlive को फॉलो कर सकते है |