राष्ट्रीय

पराली से ईंधन बनाने की यूनिट लगेगी, नहीं होगा पर्यावरण प्रदूषण एमपी सरकार का अनोखा कदम

Khaskhabar/पराली को जलाने से होने वाले पर्यावरणीय नुकसान को रोकने की योजना पर काम किया जा रहा है. इसी के तहत मध्यप्रदेश मे राज्य में पराली से ईंधन बनाने की इकाईयां लगाए जाने का प्रस्ताव है. राज्य के कृषि मंत्री कमल पटेल ने बीते दिनों दिल्ली में केन्द्रीय पेट्रोलियम मंत्री धर्मेन्द्र प्रधान से मुलाकात की और उनकी कई विषयों पर चर्चा भी हुई. पटेल का कहना है कि राज्य में पराली जलाने से हो रहे पर्यावरणीय नुकसान को रोकने के लिए पराली से ईंधन बनाने के यूनिट लगाए जाएंगे.

Khaskhabar/पराली को जलाने से होने वाले पर्यावरणीय नुकसान को रोकने की
Posted by khaskhabar

पटेल ने आगे बताया कि प्रदेश की 25 कृषि उपज मंडियों में पेट्रोल पंप खोलना तय हो गया है, जल्द ही मंडियों का आवश्यकता के अनुसार चयन कर आगे की प्रक्रिया पूरी की जाएगी. मंडियों में पेट्रोल पंप खुालने से किसानों को कई तरह की समस्याओं से बचाया जा सकेगा.ज्ञात हो कि फसल कटाई के बाद पराली को जलाने के लिए किसान खेतों में आग लगाते हैं जिससे बड़े पैमाने पर धुंआ होता है. इससे पर्यावरण को नुकसान होता है. इसे रोकने के लिए पराली से ईंधन बनाने पर जोर दिया जा रहा है.

प्रमुख कारणों में पराली भी सबसे प्रमुख

भारत इन दिनों दो तरह की गंभीर मामलों से जूझ रहा है. एक तो कोरोना वायरस का कहर कम होने का नाम नहीं ले रहा है ऊपर से प्रदूषण की वजह से कोरोना संक्रमण में तेजी से फैल रहा है. प्रदूषण के बढ़ने के प्रमुख कारणों में पराली भी सबसे प्रमुख है. पराली जलाने से धुए का गुबार हजारों किलोमीटर कर फैल जाता है जिससे लोगों को सांस लेने में काफी समस्या होती है.

Khaskhabar/पराली को जलाने से होने वाले पर्यावरणीय नुकसान को रोकने की
Posted by khaskhabar

कृषि मंत्री पटेल का कहना है कि राज्य में किसानों के कल्याण के लिए प्रभावी योजनाओं को अमल में लाया गया है जिससे उन्हें आत्मनिर्भर और समृद्ध बनाने में मदद मिलेगी.आपको बता दें कि मध्य भारत और उत्तर भारत में पराली एक बेहद गंभीर समस्या है. इसकी वजह से हर दिन प्रदूषण में वृद्धि होती जा रही है.

यह भी पढ़े—हाइपरबेरिक ऑक्सीजन ट्रीटमेंट इंसानों में उम्र बढ़ने पर लगा सकता है रोक,इजरायल के वैज्ञानिकों का दावा

ईंधन बनाने की इकाईयां लगाए जाने का प्रस्ताव

मध्यप्रदेश मे पराली को जलाने से होने वाले पर्यावरणीय नुकसान को रोकने की योजना पर काम किया जा रहा है. इसी के तहत राज्य में पराली से ईंधन बनाने की इकाईयां लगाए जाने का प्रस्ताव है. राज्य के कृषि मंत्री कमल पटेल ने बीते दिनों दिल्ली में केन्द्रीय पेट्रोलियम मंत्री धर्मेन्द्र प्रधान से मुलाकात की और उनकी कई विषयों पर चर्चा भी हुई. पटेल का कहना है कि राज्य में पराली जलाने से हो रहे पर्यावरणीय नुकसान को रोकने के लिए पराली से ईंधन बनाने के यूनिट लगाए जाएंगे.

और ज्यादा खबरे पढ़ने और जाने के लिए ,अब आप हमे सोशल मीडिया पर भी फॉलो कर सकते है –
ट्विटर पर फॉलो करने के लिए टाइप करे – @khas_khabar एवं न्यूज़ पढ़ने के लिए #khas_khabar फेसबुक पर फॉलो करने के लाइव आप हमारे पेज @socialkhabarlive को फॉलो कर सकते है |