राष्ट्रीय

दिल्ली के ‘बाबा का ढाबा ‘पर नहीं बची विज्ञापन के लिए जगह,कई कंपनियों ने लगाऐ इश्तहार,ऑर्डर करके भी मंगा सकेंगे खाना

Khaskhabar/बाबा का ढाबा:दिल्ली के मालवीय नगर स्थित बाबा का ढाबा इन दिनों चर्चा में है। इस ढाबे के चलाने वाला कांता प्रसाद का एक वीडियो बीते हफ्ते वायरल हुआ था। जिसमें वो रोते हुए कह रहे थे कि लॉकडाउन के बाद काम नहीं बचा है और उनको गुजारा करना मुश्किल हो रहा है।इस वीडियो के वायरल होने के बाद सैकड़ों लोग रोज उनके यहां खाना खा रहे हैं। जिसके बाद वो काफी खुश हैं। इतना ही नहीं बाबा का ढाबा जोमैटो पर भी लिस्टिड हो गया है, यानी आप ऑर्डर करके वहां से खाना मंगा सकते हैं। वहीं कई कंपनियां भी विज्ञापन के लिए पहुंच गई हैं।

Khaskhabar/बाबा का ढाबा:दिल्ली के मालवीय नगर स्थित बाबा का ढाबा इन दिनों
Posted by khaskhabar

कुछ दिनों पहले तक ‘बाबा का ढाबा’ दिल्ली के मालवीय नगर की सामान्य दुकान थी। जहां एक बुजुर्ग दंपती खाना बेचने के लिए मशक्कत कर रहा था। मगर अब यहां बड़ी-बड़ी कंपनियां अपना विज्ञापन और प्रचार करने में जुटी हैं। ढाबे के मालिक कांता प्रसाद के लिए जिंदगी बिल्कुल बदल गई है। अब वो एक आदमी की तलाश में हैं जो उन्हें इस बढ़ी मांग को पूरा करने में उनकी मदद कर सके।

यहां कई कोविड इंश्योरेंस के छोटे काउंटर भी लग गए

Khaskhabar/बाबा का ढाबा:दिल्ली के मालवीय नगर स्थित बाबा का ढाबा इन दिनों
Posted by khaskhabar

कांता प्रसाद अब जनता के बीच हीरो बन चुके हैं। अब लोगों में उनके साथ फोटो खिंचवाने की होड़ है। लोग अब ‘बाबा का ढाबा’ के पास रुक कर फोटो और सेल्फी लेते हैं। कांता प्रसाद की दुकान अब पोस्टरों और बैनरों से भर चुकी है। अब यहां पोस्टर लगाने के लिए शायद ही कोई जगह बची है। इसी के साथ यहां कई कोविड इंश्योरेंस के छोटे काउंटर भी लग गए हैं।

जब कांता प्रसाद से पूछा गया कि वो इसी बढ़ी हुई मांग को कैसे पूरा करेंगे, तो उन्होंने बताया कि अब मैं किसी ऐसे व्यक्ति की तालाश में हूं जो मेरी मदद कर सके। क्योंकि मैं अपने ग्राहकों को मना नहीं कर सकता। इस उम्र में मैं सब कुछ अकेले नहीं कर सकता। पहले मैं 750 ग्राम चावल बेचने के लिए मश्क्कत करता था। मगर अब मैं आधे दिन में पांच किलो चावल बेच लेता हूं।

यह भी पढ़े—Government Jobs: केंद्र सरकार का बड़ा ऐलान, सरकारी नौकरियों में साक्षात्कार को किया गया खत्म

बाबा का ढाबा:पत्नी के साथ चलाते हैं छोटा सा ढाबा

‘बाबा का ढाबा’ को कांता प्रसाद और उनकी पत्नी बादामी देवी मिलकर चलाते हैं। साउथ दिल्ली के मालवीय नगर की शिवालिक कॉलोनी में हनुमान मंदिर के सामने बी ब्लॉक में स्थित इस ढाबे पर चाय-नाश्ते से लेकर लंच तक मिलता है। कांता प्रसाद की उम्र करीब 80 है। वो 1988 से इस ढाबे को चला रहे हैं। उनका जो वीडियो वायरल हुआ था, उसमें वो कह रहे थे कि कमाई ना के बराबर है, ज्यादातर खाना बच जाता है, उसे लेकर घर चले जाते हैं।

खाने में दाल, चावल, सब्जी, रोटी, परांठा, चाय सभी कुछ बनाते हैं। परिवार में दो बेटे और एक बेटी है, लेकिन कोई मदद नहीं करता। लॉकडाउन से पहले काम ठीक चलता था, लेकिन अब यहां ग्राहक बहुत कम आते हैं। इस वीडियो के बाद उनके ढाबे पर भीड़ है।शनिवार को एक और दंपती ‘बाबा का ढाबा’ पहुंचे जो की अच्छी स्थिति में नही थे। बाबा का ढाबा पर आए लोगों ने उनकी मदद की और उन्हें वहां से खाना भी खिलाया।

और ज्यादा खबरे पढ़ने और जाने के लिए ,अब आप हमे सोशल मीडिया पर भी फॉलो कर सकते है –
ट्विटर पर फॉलो करने के लिए टाइप करे – @khas_khabar एवं न्यूज़ पढ़ने के लिए #khas_khabar फेसबुक पर फॉलो करने के लाइव आप हमारे पेज @socialkhabarlive को फॉलो कर सकते है |