राष्ट्रीय

तनिष्क विज्ञापन विवाद को लेकर गृह मंत्री अमित शाह का बयान , कुछ इस तरह दिया जवाब

Khaskhabar/तनिष्क के विज्ञापन पर हुए विवाद पर गृह मंत्री अमित शाह ने कहा कि भारत की जडे़ं काफी मजबूत हैं और ऐसी छोटी घटनाएं भारत के सामाजिक सद्भाव को तोड़ नहीं सकती हैं। उन्होंने कहा, ‘भारत में सामाजिक समरसता की जड़ें बहुत मजबूत हैं। इस पर ऐसे कई हमले हुए हैं। अंग्रेजों ने इस सद्भाव को तोड़ने की कोशिश की, बाद में कांग्रेस ने भी यही कोशिश की।’ इस दौरान शाह ने ओवरएक्टिविज्म के खिलाफ चेतावनी भी दी। उन्होंने कहा, मेरा मानना है कि अति-सक्रियता का कोई रूप नहीं होना चाहिए।

Khaskhabar/तनिष्क के विज्ञापन पर हुए विवाद पर गृह मंत्री अमित शाह ने कहा कि
Posted by khaskhabar

क्या तनिष्क विवाद के बाद भी दोहराई जाएगी ‘विवेक’ कथा?

इस हिंदी पत्रिका का नाम ‘विवेक’ बताया जाता है और भागवत का साक्षात्कार प्रकाशित होने के कोई पांच दिन बाद ही ‘तनिष्क’ के खिलाफ मचे ‘सोशल बवाल’ ने देश में हिंदू-मुस्लिम सम्बंधों ‘ज़मीनी विवेक’ की ‘गोद भराई‘ कर दी।

पिछले दिनों तनिष्क ने एक ऐड जारी किया

Khaskhabar/तनिष्क के विज्ञापन पर हुए विवाद पर गृह मंत्री अमित शाह ने कहा कि
Posted by khaskhabar

आपको बता दें कि पिछले दिनों तनिष्क ने एक ऐड जारी किया था। इसमें एक हिंदू महिला जिसकी मुस्लिम परिवार में शादी हुई है, उसके बेबी शावर के फंक्शन को दिखाया गया था।हिंदू कल्चर को ध्यान में रखते हुए मुस्लिम परिवार सभी रस्मों रिवाजों को हिंदू धर्म के हिसाब से करता है। हिंदू- मुस्लिम दो धर्मों के बारे में बात करता यह ऐड कई लोगों को पसंद नहीं आया और उन्होंने इसे ‘लव जिहाद’ को बढ़ावा देने वाला करार दिया।

गर्भवती हिंदू महिला की ‘गोद भराई’ की रस्म

भारतीय त्योहारों के अवसर पर जारी किए जाने वाले अनूठे विज्ञापनों की तनिष्क की एक लम्बी श्रृंखला है। विवाद का मुद्दा बनाए गए वीडियो विज्ञापन में एक ऐसी गर्भवती हिंदू महिला की ‘गोद भराई’ की रस्म के अत्यंत ही भावपूर्ण दृश्य हैं, जिसका विवाह एक मुस्लिम परिवार में हुआ है। ससुराल में हिंदू परम्परा के दृश्य से अभिभूत महिला जब अपनी मुस्लिम सास से सवाल करती है कि ऐसी रस्म तो उनके यहां नहीं होती तो वह (सास) जवाब देती है कि बेटी को ख़ुश रखने की रस्म तो हर घर में होती है। बवाल मचाने वालों ने अपनी ‘जनता ट्रायल’ में विज्ञापन को ‘लव-जिहाद’ को बढ़ावा देने वाला ठहरा दिया।

यह भी पढ़े— भुखमरी सूचकांक में नेपाल और बांग्लादेश से भी पिछड़ा है भारत , स्थिति देख बिफरे राहुल गांधी

विज्ञापन को लेकर धार्मिक नफ़रत फैलाने का मामला

ज्वैलरी ब्रांड तनिष्क के विज्ञापन को लेकर धार्मिक नफ़रत फैलाने के मामले को अमित शाह ने ‘ओवर एक्टिविज़्म’ यानी अति सक्रियता बताया है और एक तरह से इसको लेकर चेताया है। इस विज्ञापन और सामाजिक तानेबाने को लेकर सवाल पर अमित शाह ने कहा कि ढेर सारे ऐसे हमले हुए हैं, लेकिन सामाजिक तानाबाना नहीं टूटा। इसी क्रम में गृह मंत्री ने इसकी तुलना तो अंग्रेज़ों के हमले से कर दी। हालाँकि इसी के साथ उन्होंने कांग्रेस का भी नाम लिया। उन्होंने न्यूज़-18 को साक्षात्कार में ये बातें कही हैं। 

और ज्यादा खबरे पढ़ने और जाने के लिए ,अब आप हमे सोशल मीडिया पर भी फॉलो कर सकते है –
ट्विटर पर फॉलो करने के लिए टाइप करे – @khas_khabar एवं न्यूज़ पढ़ने के लिए #khas_khabar फेसबुक पर फॉलो करने के लाइव आप हमारे पेज @socialkhabarlive को फॉलो कर सकते है |