YOGI
राष्ट्रीय

डोनाल्ड ट्रम्प भी हुए सीऍम योगी के मुरीद, अमेरिका में लागू किया योगी मॉडल

उत्तर प्रदेश के सीऍम योगी आदित्यनाथ के “योगी मॉडल” की चर्चा आज लखनऊ से 12,346 किमी दूर अमेरिका में भी छायी हुई है | उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री श्री योगी आदित्यनाथ जी के योगी मॉडल की चर्चा आज अमेरिका के वाइट हाउस तक पहुंच गयी है | दरसल ये मामला दंगाइयों पर सख्त एक्शन लेने वाले मॉडल से जुड़ा हुआ है |

सीऍम योगी

साल 2019 में नारिकगता संसोधन बिल के खिलाफ हो रहे देशव्यापी प्रदर्शन में आगजनी और तोड़फोड़ देखने को मिली थी लेकिन तब उत्तर प्रदेश ने सख्त एक्शन लेते हुए एक मिसाल पेश की थी| उत्तर प्रदेश के सीऍम योगी आदित्यनाथ ने सरकारी सम्पति के नुक्सान जिसमे सरकारी बसे और पुलिस स्टेशन शामिल थे का आकलन कराया और दंगो में सम्मलित लोगो से इसकी भरपाई के लिए मुहीम चालू कर दी थी और उनके पोस्टर्स को लखनऊ शहर के बीच चौराहे पर लगा कर लोगो को एक सन्देश दिया था की यू पी सरकार हिंसा को बढ़ावा नहीं देती है और हिंसक प्रदर्शन के सख्त खिलाफ है एवं प्रदर्शन में हो रहे नुक्सान की भरपाई के लिए जिम्मेदार व्यक्तियों की निजी सम्पति को बेचकर पैसा जुटाएगी |

यह भी पढ़े — कोरोना के बढ़ते संक्रमण को देखते हुए सभी विश्वविद्यालयों मे अगस्त तक सभी परीक्षाएं रद

इस फैसले के बाद से यू पी में हिंसक प्रदर्शन से लोग डरने लगे क्योकि किसी नुक्सान की स्थिति में उनकी निजी संपत्ति खतरे में पद सकती है | सरकार के इस कदम के बाद से लोगो ने सुप्रीम कोर्ट की मदद ली |

योगी मॉडल के तर्ज पर अमेरिका में भी कार्रवाई की गई। दरअसल, व्हाइट हाउस के पास लेफायेट्टे स्क्वायर पर हुए दंगें के 15 आरोपियों की तस्वीरें पोस्टर में लगाई गई हैं। दंगों के आरोपियों पर व्हाइट हाउस के पास लगी पूर्व राष्ट्रपति एंड्र्यू जैक्सन की प्रतिमा को गिराने की कोशिश करने का आरोप है, जिसकी वजह से उनसे वसूली की भी बात की जा रही है|