राष्ट्रीय

चीन सीमा पर बड़ा तनाव, अम्बाला में लड़ने को तैयार है राफेल

भारत -चीन के साथ एलएसी (LAC) पर तनाव के बीच बृहस्पतिवार को भारतीय वायुसेना की ताकत बढ़ गई है। बीते दिनों फ्रांस से भारत आए पांच राफेल लड़ाकू विमान आधिकारिक रूप से वायुसेना अंबाला एयरबेस पर मोर्चा के लिए तैनात हो गए हैं। लंबी राजनीतिक बहस और प्रक्रिया पूरे होने के बाद राफेल लड़ाकू विमान इसी साल 29 जुलाई भारत पहुंचे थे। अत्याधुनिक तकनीक से लैस राफेल वायुसेना की बड़ी ताकत बनेंगे। अंबाला से चीन और पाकिस्‍तान दोनों सीमा नजदीक हैं।

India China Tension
Posted By – Khas Khabar

चीन और पाकिस्तान सीमा के नजदीक होने का मिलेगा भारत को फायदा

29 जुलाई को फ्रांस से पांच राफेल विमान अंबाल के एयरफोर्स बेस में पहुंचे थे। इनमें तीन सिंगल सीटर और दो ट्विन सीटर जेट हैं। अंबाला एयरबेस में जगुआर और मिग-21 फाइटर जेट भी हैं। राफेल का दूसरा बैच अक्टूबर तक आने की उम्मीद है। इसमें तीन से चार फाइटर जेट हो सकते हैं। भारत में फ्रांस से कुल 36 राफेल विमान आने हैं।

यह भी पढ़े — UN:संयुक्त राष्ट्र की रिपोर्ट महामारी लॉकडाउन के बावजूद बने नए उत्सर्जन रिकॉर्ड

राफेल फाइटर जेट वायुसेना की 17वीं स्कवॉड्रन का हिस्सा बने हैं। इस स्क्वॉड्रन को गोल्डन ऐरो स्क्वॉड्रन नाम दिया गया है। 17वीं स्क्वॉड्रन को करगिल युद्ध के दौरान पूर्व एयरफोर्स चीफ बीएस धनोवा कमांड कर रहे थे। यह स्क्वॉड्रन 1951 में बनी थी और तब भटिंडा एयरबेस से ऑपरेट करती थी। जब मिग-21 फाइटर जेट फेजआउट होने लगे तो यह 2016 में डिस्बैंड हो गई। अब यह स्क्वॉड्रन राफेल की होगी।

Posted By – Khas Khabar

मुख्यमंत्री मनोहर लाल ने किया ट्वीट

गुरुग्राम के मेदांता अस्पताल में उपचाराधीन हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल ने ट्वीट कर कहा कि देशवासियों के लिए आज गर्व का पल है। राफेल के भारतीय वायु सेना के बेड़े में शामिल होने पर सभी को बधाई। राफेल विमान भारतीय वायु सीमा की सशक्त निगरानी तथा वायुसेना को और मजबूत बनाने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाएंगे।

और ज्यादा खबरे पढ़ने और जाने के लिए ,अब आप हमे सोशल मीडिया पर भी फॉलो कर सकते है –
ट्विटर पर फॉलो करने के लिए टाइप करे – @khas_khabar एवं न्यूज़ पढ़ने के लिए #khas_khabar
फेसबुक पर फॉलो करने के लाइव आप हमारे पेज @socialkhabarlive को फॉलो कर सकते है|