कारोबार राष्ट्रीय

गुजरात सरकार ने Cerestra के साथ किया MoU,धोलेरा में स्पेशल एजुकेशन रीजन (G-SER) होगा स्थापित

Khaskhabar/धोलरे स्पेशल इन्वेस्टमेन्ट रीजन (DSIR), राज्य सरकार की एक प्रमुख परियोजना है जिसे ‘‘ग्रीनफील्ड इंडस्ट्रियल सिटी’’ की अवधारणा पर ‘‘दिल्ली-मुंबई औद्योगिक गलियारे क्षेत्र’’ के तहत विकसित किया जा रहा है। DSIR अपने एक्टिवेशन एरिया के साथ व्यापार करने के लिए तैयार है जो कि युटिलिटी एंबेडेड सर्विस्ड प्लॉट और प्लान्ड स्ट्रैटिजिक रीजनल कनेक्टिविटी जैसे अहमदाबाद-धोलेरा एक्सप्रेसवे, धोलेरा इंटरनेशनल एयरपोर्ट और भीमनाथ-धोलेरा रेल लाइन जैसी सुविधाओं से युक्त है।

Khaskhabar/धोलरे स्पेशल इन्वेस्टमेन्ट रीजन (DSIR), राज्य सरकार की एक प्रमुख परियोजना है जिसे ‘‘ग्रीनफील्ड इंडस्ट्रियल सिटी’’ की अवधारणा पर ‘‘दिल्ली-मुंबई औद्योगिक गलियारे क्षेत्र’’ के तहत विकसित किया जा रहा है। DSIR अपने एक्टिवेशन एरिया के साथ व्यापार करने के लिए तैयार है जो कि युटिलिटी एंबेडेड सर्विस्ड प्लॉट और प्लान्ड स्ट्रैटिजिक रीजनल कनेक्टिविटी जैसे
Posted by khaskhabar

Cerestra Managers Private Limited को एक समझौता ज्ञापन पर हस्ताक्षर के लिए निर्धारित किया

भौगोलिक अवसंरचना के साथ-साथ सामाजिक बुनियादी ढांचे का समय पर विकास, बेहतर भविष्य के लिए बहुत ही ज़रूरी है। इसी प्रयास के साथ राज्य सरकार ने M/s Cerestra Managers Private Limited को एक समझौता ज्ञापन पर हस्ताक्षर के लिए निर्धारित किया गया है।

Khaskhabar/धोलरे स्पेशल इन्वेस्टमेन्ट रीजन (DSIR), राज्य सरकार की एक प्रमुख परियोजना है जिसे ‘‘ग्रीनफील्ड इंडस्ट्रियल सिटी’’ की अवधारणा पर ‘‘दिल्ली-मुंबई औद्योगिक गलियारे क्षेत्र’’ के तहत विकसित किया जा रहा है। DSIR अपने एक्टिवेशन एरिया के साथ व्यापार करने के लिए तैयार है जो कि युटिलिटी एंबेडेड सर्विस्ड प्लॉट और प्लान्ड स्ट्रैटिजिक रीजनल कनेक्टिविटी जैसे
Posted by khaskhabar

Cerestra Ventures, जो कि भारत की सबसे बड़ी एजुकेशन इन्फ्रास्ट्रक्चर फंड है, यह गुजरात सरकार के साथ मिलकर धोलेरा में स्पेशल एजुकेशन रीजन को विकसित करने के लिए तैयार है। हैदराबाद स्थित यह प्राइवेट इक्विटी फर्म जीवन के वास्तविक तत्व शिक्षा और जीवन विज्ञान के क्षेत्र में निवेश, विकास और प्रबंधन का काम करती है। 

क्वालिटी सेन्ट्रिक एजुकेशन हब्स को स्थापित करने पर फोकस

शिक्षा के क्षेत्र में अपने कदमों के साथ Cerestra, मुंबई, हैदराबाद और बैंगलोर में “First in Class” क्वालिटी सेन्ट्रिक एजुकेशन हब्स को स्थापित करने पर फोकस कर रही है। इन हब्स में स्कूल और छात्र आवास का निर्माण भी शामिल है।

धोलेरा इंडस्ट्रियल सिटी जिसे 920 वर्ग किमी. क्षेत्र में विकसित किया जा रहा है, यह सेल्फ सस्टेनिंग ईकोसिस्टम से लैसे होगा जिसमें इंडस्ट्रियलाइजेशन, युटिलिटी एंड लॉजिस्टिक्स इन्फ्रास्ट्रक्चर, सोशल इन्फ्रास्ट्रक्चर जिसमें एजुकेशन, हेल्थ केयर और दूसरी सार्वजनिक सुविधाएं भी शामिल रहेंगी।

मुख्यमंत्री श्री विजय रुपाणी ने इस अवसर पर कहा ‘‘धोलेरा पहला मॉडर्न ग्रीनफील्ड इंडस्ट्रियल सिटी है जिसे इंडस्ट्रियल 4.0 मैन्युफैक्चरिंग को सहयोग करने के लिए विकसित किया गया है। धोलेरा में विकसित होने वाला स्पेशल एजुकेशन रीजन गुजरात के नॉलेज-ड्रिवन ईकोनॉमी के लक्ष्य को हासिल करने में मदद करेगा।’’

परियोजना का पहला चरण पूरा होने के करीब

धोलेरा इंडस्ट्रियल सिटी डेवलपमेन्ट लिमिटेड के सीईओ, श्री हरीत शुक्ला, IAS, ने कहा, ‘‘हमें यह बताते हुए खुशी हो रही है कि धोलेरा परियोजना का पहला चरण पूरा होने के करीब है। हम धोलेरा और अहमदाबाद को एक एक्सप्रेसवे के साथ जोड़ रहे हैं। कनेक्टिविटी को बढ़ाने के लिए जल्द ही इंटरनेशनल हवाई अड्डे का काम शुरू किया जाएगा। हम प्रस्तावित गुजरात स्पेशल एजुकेशन रीजन (G-SER) के लिए ज़रूरी सभी सहायता प्रदान करेंगे’’

धोलेरा इंडस्ट्रियल सिटी डेवलपमेन्ट लिमिटेड के चेयरमैन, श्री एम. के. दास, IAS, ने कहा,

‘‘गुजरात का ट्रैक रिकॉर्ड है कि इस राज्य ने सामाजिक विकास और प्रगति के लिए कई नए सामाजिक-आर्थिक और गतिशील मॉडल को लागू किया है। धोलेरा में विकसित किया जाने वाला स्पेशल एजुकेशन रीजन वैश्विक स्तर का एजुकेशन लर्निंग सिस्टम लाएगा जो भारत में पहले कभी नहीं देखा गया है।’’

गुजरात स्पेशल एजुकेशन रीजन (G-SER) को 1000 एकड़ क्षेत्र में एजुकेशन हब के रूप में विकसित किया जाएगा जिसे भविष्य में 5000 एकड़ से अधिक के क्षेत्र फैलाया जा सकता है। धोलेरा स्पेशल इन्वेस्टमेन्ट रीजन में युनिवर्सिटी डिस्ट्रिक्ट, स्कूल डिस्ट्रिक्ट, डिस्कवरी डिस्ट्रिक्ट और इनोवेशन डिस्ट्रिक्ट शामिल होंगें जिसमें सामान्य बुनियादी ढांचे जैसे छात्र आवास, खेल परिसर की भी सुविधा होगी। G-SER दुनिया के दूसरे शीर्ष शिक्षा समूहों के साथ प्रतिस्पर्धा के लिए तैयार है।

राज्य के आर्थिक विकास को और गति मिलेगी

G-SER परियोनजा में निवेश से राज्य के आर्थिक विकास को और गति मिलेगी और साथ ही इससे बड़े पैमाने पर प्रत्यक्ष और अप्रत्यक्ष रोज़गार सृजन भी होगा। यह परियोजना कई अतिरिक्त सुविधाओं को भी स्थापित करने में मदद करेगी जो अर्थव्यवस्था को अनपेक्षित रूप से लाभ लाभ प्रदान करेगी और इससे लगभग 2,50,000 लोगों की आजीविका में मदद होगी।

Cerestra के मैनेजिंग पार्टनर जसमीत छाबरा ने कहा, Cerestra, K-12, स्टूडेन्ट हाउसिंग एजु-इन्फ्रा और स्कूलों के संचालन के साथ एक एंड-टू-एंड इंटीग्रेटेड एजुकेशन इन्वेस्टमेन्ट प्लैटफॉर्म है। Cerestra का उद्देश्य एजुकेशन-इन्फ्रास्ट्रक्चर के लिए एक स्थायी और विविधतापूर्ण पोर्टफोलियो तैयार करना और भारत की पहली Edu-Infra InvIT यानि (Infrastructure Investment Trust) की योजना बनाना है। G-SER MoU इस दिशा में एक मील का पत्थर साबित होगा।” 

यह भी पढ़े—National Consumer Day पर जानें कुछ जरूरी अधिकारों की बात, आपके लिए हो सकती हैं फायदेमंद

देश में एक अच्छा विकल्प उपलब्ध कराएगा

Cerestra के पार्टनर विशाल गोयल ने कहा, Cerestra का इरादा है कि वैश्विक विश्वविद्यालयों तक पहुंच बनाने में हम सबसे आगे रहें। COVID ने विश्वविद्यालयों को अपने शिक्षण और सीखने की विधियों पर पुनर्विचार करने के लिए विवश कर दिया है। G-SER न केवल विदेशी छात्रों को हमारे यहां आने के लिए आकर्षित करेगा बल्कि हमारे देश के ऐसे प्रतिभावान छात्र जो अपनी पढ़ाई के लिए विदेश जाने की इच्छा रखते हैं उन्हें भी यह अपने ही देश में एक अच्छा विकल्प उपलब्ध कराएगा।

और ज्यादा खबरे पढ़ने और जाने के लिए ,अब आप हमे सोशल मीडिया पर भी फॉलो कर सकते है –
ट्विटर पर फॉलो करने के लिए टाइप करे – @khas_khabar एवं न्यूज़ पढ़ने के लिए #khas_khabar फेसबुक पर फॉलो करने के लाइव आप हमारे पेज @socialkhabarlive को फॉलो कर सकते है |