कारोबार राष्ट्रीय

गुजरात के तापी में बनेगा विश्व का सबसे बड़ा ज़िंक स्मेल्टर कॉम्प्लेक्स

मुख्य बिंदु:

  • इस परियोजना से 5,000 प्रत्यक्ष रोज़गार के अवसर पैदा होंगे
  • 36 महीनों में पूरा होगा पहला चरण
  • गुजरात सरकार और वेदांता के बीच 10,000 करोड़ रुपए का समझौता

Khaskhabar/गुजरात:मुख्यमंत्री श्री विजय रुपाणी की उपस्थिति में गुजरात सरकार ने आज वेदान्ता समूह की सहायक कंपनी हिन्दुस्तान ज़िंक लिमिटेड के साथ एक समझौता किया है जिसके अंतर्गत तापी ज़िले के दोसवाड़ा में 10,000 करोड़ रुपए की लागत से ज़िंक स्मेल्टर संयंत्र स्थापित किया जाएगा।

 Khaskhabar/गुजरात:मुख्यमंत्री श्री विजय रुपाणी की उपस्थिति में गुजरात सरकार
Posted by khaskhabar

“300 KTPA की उत्पादन क्षमता वाली यह नई ज़िंक स्मेल्टर परियोजना राज्य के आर्थिक और औद्योगिक विकास को और तेज़ गति प्रदान करेगी। साथ ही, यह परियोजना 5,000 से अधिक लोगों के लिए प्रत्यक्ष रोजगार का भी सृजन करेगी। माननीय मुख्यमंत्री श्री विजय रुपाणी ने कहा कि इस क्षेत्र में और इसके आसपास के इलाकों में लगभग 25,000 लोगों को आजीविका प्रदान करने में मदद मिलेगी” ।

तापी ज़िले के दोसवाड़ा में बनने वाला यह कॉम्प्लेक्स मुख्य रूप से एशिया और मध्य पूर्व के बड़े निर्यात बाजारों को कवर करेगा। साथ ही यह बढ़ती हुई घरेलू मांग को भी पूरा करेगा। गुजरात की नई औद्योगिक नीति का लाभ उठाते हुए वेदांता कंपनी एक अत्याधुनिक अनुसंधान एवं विकास केंद्र भी स्थापित करेगी जो टेक्नोलॉजी और इनोवेशन के माध्यम से प्राकृतिक संसाधनों के संरक्षण में मदद करेगी।

Smelting and other sustainability initiatives – Vigyan Samiti delegation  visits Hindustan Zinc
Posted by khaskhabar

अगले 36 महीनों के भीतर इस परियोजना के पहले चरण के शुरू होने की उम्मीद

MoU पर हस्ताक्षर करने की तारीख से अगले 36 महीनों के भीतर इस परियोजना के पहले चरण के शुरू होने की उम्मीद है। इस महत्वपूर्ण अवसर पर सीएम श्री रुपाणी ने कहा ”इस संयंत्र को निर्धारित समय सीमा में शुरू करने के लिए जो भी सहायता की ज़रूरत होगी उसे जल्द से जल्द उपलब्ध कराया जाएगा। श्री रुपाणी ने आगे  कहा “मुझे उम्मीद है कि हिंदुस्तान ज़िंक कंपनी गुजरात के विज़न को आगे बढ़ाने और उद्योग के लिए एक कुशल पारिस्थितिकी तंत्र के निर्माण में सहायक सिद्ध होगी”। मुख्यमंत्री ने अपने वक्तव्य में प्रगतिशील और उदार औद्योगिक नीति को भी रेखांकित किया जिसके कारण हिंदुस्तान ज़िंक जैसी बड़ी-बड़ी कंपनियां गुजरात को पसंदीदा निवेश गंतव्य के रूप में चुन रही हैं।

गौरतलब है कि जुलाई 2019 में जेके पेपर्स ने 1,500 करोड़ रुपये के निवेश के साथ तापी जिले में अपने सोनगढ़ पेपर मिल का विस्तार करने के लिए गुजरात सरकार के साथ एक समझौता किया था और जनवरी 2021 से इसके संचालन शुरू होने की उम्मीद थी। यहां ध्यान देने वाली बात यह है कि यह कंपनी अपने उल्लिखित समय से छह महीने आगे रहकर काम कर रही है। अधिकांश सिविल कार्य पूरे हो चुके हैं और इलेक्ट्रो-मैकेनिकल इंस्टॉलेशन भी एडवांस्ड स्टेज पर पहुंच चुका है जिसके चलते परियोजना का उद्घाटन अगले तीन महीने में होने की उम्मीद है। इसके विस्तार से 1000 से अधिक स्थानीय लोगों को रोज़गार मिलेगा और इस क्षेत्र के 10,000 किसानों को भी इसका लाभ मिलेगा।

मुख्यमंत्री श्री विजय रुपाणी ने विश्वास जताया है कि तापी जिले में इन दो बड़ी परियोजनाओं से सामाजिक-आर्थिक विकास के नए द्वार खुलेंगे और इन क्षेत्रों की जनजातीय आबादी के लिए बड़े पैमाने पर रोजगार के नए अवसर पैदा होंगे।

ऑफिसर श्री अरुण मिश्रा ने इस समझौते पर हस्ताक्षर किया

यह भी पढ़े—EPFO (कर्मचारी भविष्य निधि संगठन) की नई सौगात, PF से जुड़ी शिकायत अब चंद मिनटों में WhatsApp के जरिए दर्ज कर सकते हैं

मुख्य सचिव श्री अनिल मुकीम, सीएम के मुख्य प्रधान सचिव श्री कैलाशनाथन और वेदांता समूह के संस्थापक एवं गैर-कार्यकारी अध्यक्ष श्री अनिल अग्रवाल की उपस्थिति में गुजरात सरकार के उद्योग एवं खनन विभाग के अतिरिक्त मुख्य सचिव श्री एम.के.दास और हिंदुस्तान ज़िंक लिमिटेड के होल टाइम डायरेक्टर एन्ड एक्ज़क्युटिव ऑफिसर श्री अरुण मिश्रा ने इस समझौते पर हस्ताक्षर किया।

और ज्यादा खबरे पढ़ने और जाने के लिए ,अब आप हमे सोशल मीडिया पर भी फॉलो कर सकते है –
ट्विटर पर फॉलो करने के लिए टाइप करे – @khas_khabar एवं न्यूज़ पढ़ने के लिए #khas_khabar फेसबुक पर फॉलो करने के लाइव आप हमारे पेज @socialkhabarlive को फॉलो कर सकते है |