राष्ट्रीय

किसान आंदोलन:अमृतसर से राशन, पानी के टैंकर व ट्रॉली में ट्रैक्टर लादकर किसान सिंघु बॉर्डर रवाना

Khaskhabar/किसान आंदोलन:कृषि कानूनों को रद्द कराने के लिए दिल्ली की सीमाओं पर धरना दे रहे किसानों ने गणतंत्र दिवस पर ट्रैक्टर परेड की तैयारी शुरू कर दी है। पंजाब से किसान ट्रैक्टरों के साथ सिंघु बॉर्डर पर पहुंच रहे हैं। किसान ट्रैक्टर-ट्रॉली में 2-2 ट्रैक्टर लोड करके पहुंच रहे हैं। जालंधर के एक गांव से ट्रॉली में ट्रैक्टर लादकर यहां पहुंचे जितेंद्र सिंह ने कहा कि किसान जत्थेबंदियों के आह्वान पर वे यहां आए हैं। उन्होंने कहा कि ट्रॉलियों में ट्रैक्टर लादकर इसलिए ला रहे हैं कि डीजल की बचत की जा सके।

Khaskhabar/किसान आंदोलन:कृषि कानूनों को रद्द कराने के लिए दिल्ली की सीमाओं पर धरना दे रहे किसानों ने गणतंत्र दिवस पर ट्रैक्टर परेड की तैयारी शुरू कर दी है। पंजाब से किसान ट्रैक्टरों के साथ सिंघु बॉर्डर पर पहुंच रहे हैं। किसान ट्रैक्टर-ट्रॉली में 2-2 ट्रैक्टर लोड करके पहुंच रहे हैं। जालंधर के एक गांव से ट्रॉली में ट्रैक्टर

नेताजी सुभाष चंद्र बोस को श्रद्धासुमन भेंट करने के बाद शनिवार को हजारों किसान ट्रैक्टर-ट्रॉलियों के साथ सिंघु बॉर्डर के लिए रवाना हुए। ट्रैक्टरों पर बड़े-बड़े केसरी व नील रंग के झंडे लगा कर मोदी सरकार के विरुद्ध नारेबाजी कर रहे किसानों ने दो टूक कहा कि जब तक कृषि कानून वापस नहीं होंगे तब तक वह नहीं लौटेंगे। सिंघु बॉर्डर के लिए रवाना हुए जत्थे की अगुवाई जीएनडीयू के प्रोफेसर एएस सिद्धू कर रहे थे। उन्होंने बताया कि वह 26 जनवरी को दिल्ली में होने वाले किसानों के ट्रैक्टर मार्च में शामिल होंगें।

केंद्र सरकार को कृषि कानून वापस लेने के लिए मजबूर कर दंगे

उनका कहना है की हम किसान नेताजी सुभाष चंद्र बोस की ओर से बताये गए मार्ग पर चल कर केंद्र सरकार को कृषि कानून वापस लेने के लिए मजबूर कर दंगे। वहीं आम आदमी पार्टी के कार्यकर्ताओं ने किसानों के समर्थन में बाइक रैली निकाली। आप कार्यकर्ताओं ने लोगों से अपील की कि वह दिल्ली के ट्रैक्टर मार्च को सफल बनाने के लिए सहयोग करें।

भुडंगपुर के किसान जाेरा सिंह ने ट्राॅली में ट्रैक्टर लाद रखा था

गांव भुडंगपुर के किसान जाेरा सिंह ने ट्राॅली में ट्रैक्टर लाद रखा था। किसान जाेरा सिंह ने बताया कि दिल्ली में झांकी दिखाने के लिए ट्रैक्टर काे ट्राॅली में लादा गया है। वह सरकार काे जगाएंगे और बताएंगे कि किसान खेत में कैसे मेहनत करता है। गांव काैलां के किसान संजय, हाकम सिंह, हरजीत सिंह, गुरप्रीत सिंह ने बताया कि वह अपने साथ 2.50 क्विंटल आटा लेकर जा रहे हैं। राशन बनाने की सभी सुविधाएं गैंस सिलेंडर से लेकर रसाेई का सारा सामान ट्राॅली में रखा है। बलाना के किसान गुरनाम सिंह ने भी ट्राॅली काे राशन से भरा था। पीने के पानी की दिक्कत न हाे, इसलिए बिस्लरी की बाेतलाें के काफी पैकेट ट्राॅली में रखे गए।

यह भी पढ़े—बीडीसी के तीसरे चरण की मतगणना में मतपेटियों में मिले प्रधान पद के दो वोट, डीसी को सौंपा शिकायत पत्र

दोपहर 2 बजे लंगर खाने के बाद माेहड़ा अनाज मंडी से रवाना

दाेपहर 2 बजे किसान भारतीय किसान यूनियन के जिला उपप्रधान गुलाब सिंह मानकपुर, अम्बाला ब्लाॅक वन प्रधान सुखविंद्र सिंह जलबेड़ा के नेतृत्व में लंगर खाने के बाद माेहड़ा अनाज मंडी से रवाना हुए। मंडी में 250 से ज्यादा ट्रैक्टर एकत्रित हुए, जबकि ज्यादातर ट्रैक्टर-ट्राॅली दिल्ली के लिए बिना रुके ही जाते रहे। ब्लाॅक वन प्रधान सुखविंद्र सिंह जलबेड़ा ने कहा कि जब तक कृषि कानून वापस नहीं हाेते तब तक किसानाें की लड़ाई जारी रहेगी।

और ज्यादा खबरे पढ़ने और जानने के लिए ,अब आप हमे सोशल मीडिया पर भी फॉलो कर सकते है –
ट्विटर पर फॉलो करने के लिए टाइप करे – @khas_khabar एवं न्यूज़ पढ़ने के लिए #khas_khabar फेसबुक पर फॉलो करने के लाइव आप हमारे पेज @socialkhabarlive को फॉलो कर सकते है|