दुनिया राष्ट्रीय

किसानों के समर्थन में कमला हैरिस की भांजी मीना हैरिस ,कहा, ‘दुनिया के सबसे बड़े लोकतंत्र पर हो रहा हमला’

Khaskhabar/इंटरनेशनल पॉप स्टार रिहाना (Rihanna) और स्‍वीडन की पर्यावरण कार्यकर्ता ग्रेटा थनबर्ग (Greta Thunberg) के बाद अब अमेरिका की उपराष्ट्रपति कमला हैरिस (Kamala Harris) की भांजी मीना हैरिस (Meena Harris) ने भी किसान आंदोलन (Farmers Protest) को लेकर बयान दिया है. उन्होंने अमेरिका के कैपिटल हिल में हुई हिंसा का जिक्र करते हुए कहा कि एक महीने पहले दुनिया के सबसे पुराने लोकतंत्र पर हमला किया गया. अब दुनिया के सबसे बड़े लोकतंत्र पर हमला हो रहा है.

Khaskhabar/इंटरनेशनल पॉप स्टार रिहाना (Rihanna) और स्‍वीडन की पर्यावरण कार्यकर्ता ग्रेटा थनबर्ग (Greta Thunberg) के बाद अब अमेरिका की उपराष्ट्रपति कमला हैरिस (Kamala Harris) की भांजी मीना हैरिस (Meena Harris) ने भी किसान आंदोलन (Farmers Protest) को लेकर बयान दिया है. उन्होंने अमेरिका के
Posted by khaskhabar

Greta Thunberg ने ये कहा

वहीं, 18 वर्षीय पर्यावरण कार्यकर्ता ग्रेटा थनबर्ग ने भी किसान आंदोलन के पक्ष में बयान दिया है. उन्होंने अपने ट्वीट में लिखा है, ‘हम भारत में चल रहे किसानों के प्रदर्शन के साथ पूरी एकजुटता के साथ खड़े हैं’. हालांकि, ये बात अलग है कि भारत के आंतरिक मामलों में दखलंदाजी के लिए उन्हें ट्रोल किया जा रहा है. कई यूजर्स ने ग्रेटा की आलोचना करते हुए कहा है कि पहले उन्हें अपनी पढ़ाई पर ध्यान देना चाहिए. इससे पहले ग्रेटा ने भारत में होने वाली JEE, NEET 2020 परीक्षा को स्‍थगित करने का समर्थन किया था. उन्‍होंने कहा था कि भारत के बच्‍चों को कोरोना संकट के बीच में परीक्षा देने के लिए बैठने को कहना अनुचित है.

मीना :दुनियाभर में उठ रहीं आवाजें

केंद्र सरकार द्वारा लाए गए तीन कृषि कानूनों (Farm laws) के विरोध में किसान पिछले काफी समय से प्रदर्शन (Farmers Protest) कर रहे हैं. सरकार की तरफ से हर संभव संशोधन का भरोसा दिलाया गया है, लेकिन किसान अपनी मांग पर अड़े हैं. रिहाना, थनबर्ग के बाद अब कमला हैरिस (Kamala Harris) की भांजी के बयान से साफ है कि लगातार खिंच रहे आंदोलन को लेकर अब दुनियाभर में आवाजें उठने लगी हैं.

अमेरिकी पॉप स्टार रिहाना का क्या कहना है

पॉप स्टार रिहाना ने कहा कि जिस तरह से किसान आंदोलन को खत्म करने के लिए दिल्ली के आसपास घेरेबंदी की गई है उसका मतलब साफ है। जिस तरह से धरना स्थल पर इंटरनेट सेवा को प्रतिबंधित किया जा रहा है या आंदोलन करने वालों को बुनियादी सुविधाओं से वंचित किया जा रहा है उससे साफ पता चलता है कि भारत की सरकार अपने दायित्वों का किस तरह से निर्वहन कर रही है। मीना रिहाना के ट्वीट के बाद वैश्विक स्तर पर अलग अलग संगठनों की तरफ से प्रतिक्रिया आई जिसका बीजेपी ने प्रतिवाद किया।

यह भी पढ़े—यूपी : जानिए क्यों ऊर्जा मंत्री के सामने बिजली इंजीनियरों ने मांगी माफी?,क्या बोले श्रीकांत शर्मा

क्या है ग्रेटा थनबर्ग का ट्वीट

ग्रेटा थनवर्ग ने अपने ट्वीट में कहा कि वो भारत में चलाए जा रहे किसान आंदोलन के समर्थन में हैं। भारत की हुकुमत को यह देखना होगा कि जिन लोगों को सरकार की नीति से परेशानी है वो उसके लिए क्या कर रही है। बता दें कि नीट परीक्षा कराये जाने का जब कुछ छात्र विरोध कर रहे थे उस वक्त भी उन्होंने समर्थन किया था।

और ज्यादा खबरे पढ़ने और जानने के लिए ,अब आप हमे सोशल मीडिया पर भी फॉलो कर सकते है –
ट्विटर पर फॉलो करने के लिए टाइप करे – @khas_khabar एवं न्यूज़ पढ़ने के लिए #khas_khabar फेसबुक पर फॉलो करने के लाइव आप हमारे पेज @socialkhabarlive को फॉलो कर सकते है|