congress meeting
राष्ट्रीय

कांग्रेस ने चीन के साथ किया था ‘गुप्त’ समझौता, इसलिए जपती थी चीन की माला

भारत चीन सीमा विवाद कई दशकों से चला आ रहा है| और सिर्फ फर्क इस बात का है जब देश में कांग्रेस की सरकार थी तब वो चीन को एक मजबूत देश मानती थी और इस कारण से कभी चीन की हरकतों पर चुप रहती थी लेकिन सरकार बदलने के साथ देश की नीतिया भी बदल गयी है और अब भारत चीन की हर नापाक हरकतों का मुहतोड़ जबाब उसे उसी की भाषा में दे रहा है|

source – Navbharat Times


चीन भारत की सीमा में लगातार घुसपैठ कर रहा है और भारतीय इलाको को अपना बताता चला जा रहा है| लेकिन अब चीन की इन हरकतों पर भारत लगातार लगाम लगता चला जा रहा है और ये बात कांग्रेस को अच्छी नहीं लग रही है |


सवाल ये है इस मुश्किल घडी में भी कांग्रेस अपने करतूतों से बाज नहीं आ रहे है और सरकार का साथ देने की वजाए सरकार पर ही सवाल खड़े करती जा रही है |कांग्रेस के ये रवैया समझने के लिए हमें अतीत में जाना होगा और समझना होगा की कांग्रेस और कम्युनिस्ट पार्टी के बीच संबधो को समझना होगा| युपीए सरकार के फैसले हमेशा से चीन के पक्ष में रही है और कांग्रेस पार्टी के नेताओं ने तो कई बार चीन के साथ छुपकर बैठक भी की है।

7 अगस्त 2008 को कांग्रेस पार्टी ने चीन की कम्मुनिस्ट पार्टी के साथ उच्च स्तरीय सूचनाओं के आदान प्रदान और महत्वपूर्ण द्विपक्षीय, क्षेत्रीय और अंतर्राष्ट्रीय विकास पर एक-दूसरे से परामर्श करने का एक समझौता किया था| इस समझौता पर कांग्रेस के तत्कालीन मुख्य सचिव राहुल गांधी ने साइन किया था और उस समय सोनिया गांधी भी मौजूद थी। वहीं चीन की और से इस समझौते पर वहां के वर्तमान प्रधानमंत्री शी जिनपिंग ने हस्ताक्षर किया था। उस समय जिनपिंग पार्टी के उपाध्यक्ष थे। इस समझौता को करने से पहले राहुल और सोनिया गांधी ने आपसी हित के मुद्दों को लेकर शी जिंनपिंग के साथ बैठक की थी।

और पढ़ेदिल्ली के बाद यू.पी में भी हुआ कोरोना टेस्ट सस्ता, पहले चुकाने होते थे 4500 रुपये

दो बार चीन के साथ बैठक कर चुकी है कांग्रेस

कांग्रेस पार्टी हमेशा से ही चीन के साथ अपने संबंध अच्छे बनाने पर जोर देती है और इसके लिए चाहे इस पार्टी को देश के हितों के साथ ही समझौता क्यों ना करना पड़े। 2017 डोकलाम विवाद के दौरान भी राहुल गाँधी ने चीन के साथ गुप्त मीटिंग की थी जिसे जानकारी को कांग्रेस पार्टी ने खारिज कर दिया था लेकिन इस बात का खुलासा चीन की एम्बेसी ने किया था| और दूसरी मीटिंग कैलाश मानसरोवर के मामले में की थी|

अपने ही नेता को चुप करवाया


कांग्रेस नेता अधीर रंजन को लोकशभा में चीन के खिलाफ बोलने पर चुप कराया एवं चीन के खिलाफ उनके ट्ववीट को भी डिलीट करवा दिया |