दुनिया

आसमान में दिखेंगे दो-दो चांद,नासा के मुताबिक 2020 में अक्टूबर से मई तक लोग देख पाएंगे यह घटना

Khaskhabar/आसमान में दिखेंगे दो-दो चांद,साल 2020 लोगों के लिए कई तरह से शॉक लेकर आया। इस साल में एक के बाद एक कई तरह की मुसीबतें लोगों के लोगों के सामने आती जा रही है। कोरोना महामारी ने लोगों की जिंदगी में वो भूचाल ला दिया जिसकी किसी ने कल्पना भी नहीं की थी। इस बीच अंतरिक्ष में भी कई तरह की घटनाएं देखने को मिल रही है।

Khaskhabar/आसमान में दिखेंगे दो-दो चांद,साल 2020 लोगों के लिए कई तरह से
Posted by khaskhabar

नासा के मुताबिक इस साल अक्टूबर के महीने से आसमान में लोगों को चांद के अलावा एक मिनीमून भी नजर आएगा। इसे लोग आसमान में अगले साल मई तक देख पाएंगे। ये मिनीमून तेजी से पृथ्वी की ग्रेविटी की और आ रहा है और अब अगले कई महीने यही फंसकर रहेगा। इस कारण लोगों को आसमान में दो चांद नजर आएंगे।

नासा के एक साइंटिस्ट के मुताबिक, जिस टुकड़े को लोग एस्टेरोइड बता रहे हैं वो असल में 1966 में लांच हुए एक रॉकेट का हिस्सा है। टॉनी डन जो कि एक एस्ट्रोलॉजर है, ने डेलीमेल को बताया कि इस मलबे की डेंसिटी काफी ज्यादा है। इसके पृथ्वी तक आने में सोलर रेडिएशन प्रेशर का भी अहम योगदान है।

Khaskhabar/आसमान में दिखेंगे दो-दो चांद,साल 2020 लोगों के लिए कई तरह से
Posted by khaskhabar

वही नासा के JPL ने बताया कि पृथ्वी की तरह एस्टेरोइड 2020 SO तेजी से आ रहा है। ये इस साल अक्टूबर से अगले साल के मई महीने तक आसमान के लिए मिनीमून बनेगा। हालांकि इसे लेकर एस्ट्रोलॉजर्स में थोड़ा मतभेद है। कुछ एक्सपर्ट्स का कहना है कि ये कोई एस्टेरोइड नहीं है। बल्कि ये इंसान का बनाया कोई सैटेलाइट का मलबा है।

यह भी पढ़े  —देश की पहली रैपिड रेल का लुक जारी, 180 KM प्रतिघंटा होगी रफ्तार

अब तक के इतिहास के मुताबिक, पृथ्वी पर दो मिनीमून रिकॉर्ड किये गए

फरवरी में ही नासा ने इसे डिटेक्ट कर लिया था। अब ये तेजी से पृथ्वी की तरफ बढ़ रही है और अगले महीने से लेकर मई 2021 तक आसमान में लोगों को दिखाई देगी।अब तक के इतिहास के मुताबिक, पृथ्वी पर दो मिनीमून रिकॉर्ड किये गए हैं। एक जहां इसी साल फरवरी 2020 में था जबकि दूसरा 2006 में। ये दोनों ही एस्टेरोइड थे। लेकिन इस बार वाले मिनीमून को स्पेस जंक भी कहा जा रहा है। अभी तक की जानकारी के मुताबिक, ये 12 से 46 फीट लंबी है। एक्सपर्ट्स के मुताबिक, एस्टेरोइड 2020 की वेलोसिटी अपोलो एस्टेरोइड से काफी कम है।

और ज्यादा खबरे पढ़ने और जाने के लिए ,अब आप हमे सोशल मीडिया पर भी फॉलो कर सकते है –
ट्विटर पर फॉलो करने के लिए टाइप करे – @khas_khabar एवं न्यूज़ पढ़ने के लिए #khas_khabar फेसबुक पर फॉलो करने के लाइव आप हमारे पेज @socialkhabarlive को फॉलो कर सकते है |