दुनिया

आग की लहरों में डूब सकता है ये द्वीप,ज्वालामुखी द्वीप पर रहते 170 लोग, यहां से दिखती है आकाशगंगा

Khaskhabar/अगर आपको पता हो कि जिस जगह पर आप रहते हैं वहां कभी भी ज्वालामुखी विस्फोट हो सकता है, तो शायद ही आप वहां रहना चाहेंगे। मौत से घिरकर वहां रहना शायद ही समझदारी का फैसला है। लेकिन जापान से कुछ दूर बसे आओगाशिमा द्वीप पर 170 लोग हर रात इस खौफ में सोते हैं कि कहीं अचानक ज्वालामुखी फूट जाए और सबकी मौत नींद के आगोश में ही ना हो जाए।

Khaskhabar/अगर आपको पता हो कि जिस जगह पर आप रहते हैं वहां कभी भी ज्वालामुखी विस्फोट हो सकता है, तो शायद ही आप वहां रहना चाहेंगे। मौत से घिरकर वहां रहना शायद ही समझदारी का फैसला है। लेकिन जापान से कुछ दूर बसे
Posted by khaskhabar

यह द्वीप फिलीपीन सागर के मध्य में बसा है। जापान की राजधानी टोक्यो इसकी दूरी मात्र 358 किलोमीटर है। इस छोटे से द्वीप पर एक्टिव वॉलकैनो होने के बावजूद 170 लोग यहां परिवार सहित रहते हैं। इस द्वीप की आकर्षक तस्वीरों के अलावा यहां की खासियत टूरिस्ट्स को भी आकर्षित करती है।

द्वीप का नाम है आओगाशिमा

वह दुनिया का इकलौता प्राकृतिक तारामंडल है. यानी नेचुरल प्लैनेटेरियम. यह एक ज्वालामुखीय द्वीप है पर इसपर इंसान भी रहते हैं. इस द्वीप से रात में आकाशगंगा का सबसे साफ नजारा देखने को मिलता है. आइए जानते हैं कि आखिरकार ये द्वीप है कहां? इसपर कितने लोग रहते हैं.इस द्वीप का नाम है आओगाशिमा (Aogashima). यह फिलिपीन सागर में स्थित जापान का एक ज्वालामुखीय द्वीप (Volcanic Island) है. जापान की राजधानी टोक्यो से 358 किलोमीटर दूर दक्षिण में स्थित है. इस द्वीप का क्षेत्रफल 8.75 वर्ग किलोमीटर है.

यहां से आकाशगंगा (Milky Way) का बेहतरीन नजार दिखता है

आओगाशिमा (Aogashima) द्वीप पर कुल 170 लोग रहते हैं. इस द्वीप की खास बात ये है कि अगर आसमान साफ रहता है तो यहां से आकाशगंगा (Milky Way) का बेहतरीन नजार दिखता है. यह द्वीप जापान के फूजी-हाकोने-इजू नेशनल पार्क की परिधि में आता है.

यह भी पढ़े—ओडिशा से बस्तर आ रहा पिकअप पेड़ से टकराया,कोरापुट में हुए भीषण सड़क हादसा 11 महिलाओं की मौत

द्वीप का सबसे ऊंचा हिस्सा 1388 फीट

आओगाशिमा (Aogashima) द्वीप पर स्थित ज्वालामुखी की ऊंचाई 3.5 किलोमीटर और चौड़ाई 2.5 किलोमीटर है. इस द्वीप का सबसे ऊंचा हिस्सा 1388 फीट का है. आओगाशिमा (Aogashima) आखिरी बार 1781 से 1785 तक लगातार फटा था. उसके बाद से फटा नहीं है लेकिन जापान का मौसम विभाग इसे अब भी क्लास-सी कैटेगरी का एक्टिव वॉल्कैनो कहता है

और ज्यादा खबरे पढ़ने और जानने के लिए ,अब आप हमे सोशल मीडिया पर भी फॉलो कर सकते है –
ट्विटर पर फॉलो करने के लिए टाइप करे – @khas_khabar एवं न्यूज़ पढ़ने के लिए #khas_khabar फेसबुक पर फॉलो करने के लाइव आप हमारे पेज @socialkhabarlive को फॉलो कर सकते है|