भ्रूण
राष्ट्रीय

अपराध:Jaipur में चल रहा भ्रूण लिंग जांच का काला कारोबार,जांच करते डॉक्टर और दलाल गिरफ्तार

Khaskhabar/राज्य पीसीपीएनडीटी प्रकोष्ठ ने पीसीपीएऩडीटी अधिनियम के तहत शुक्रवार को जनता कालोनी, आदर्श नगर जयपुर स्थित सुपीरियर डायनोस्टिक सेंटर पर डिकॉय कार्यवाही करते हुये अवैध भ्रूण लिंग परीक्षण करते हुये पाये जाने पर आरोपी चिकित्सक डा. नवीन शर्मा निवासी जयपुर एवं दलाल पवन जैन निवासी सरसिया, भीलवाड़ा को गिरफ्तार किया। काम में ली गयी सोनोग्राफी मशीन एवं सोनोग्राफी रिकॉर्ड जब्त किया गया।

भ्रूण

इस दौरान काम में ली गयी सोनोग्राफी मशीन (Sonography Machine) एवं सोनोग्राफी रिकॉर्ड जब्त किया गया है. दरअसल, पीसीपीएनडीटी को मुखबिर के माध्यम से सूचना मिली कि जयपुर के जनता कॉलोनी, आदर्श नगर स्थित सुपीरियर डायनोस्टिक सेंटर पर अवैध भ्रूण लिंग परीक्षण का कार्य किया जा रहा है. सूचना के पुष्टिकरण के बाद डिकॉय दल गठित किया गया.

अध्यक्ष राज्य समुचित प्राधिकारी पीसीपीएनडीटी एवं मिशन निदेशक एनएचएम नरेश कुमार ठकराल ने बताया कि मुखबिर के माध्यम से सूचना मिली कि जयपुर के जनता कॉलोनी, आदर्श नगर स्थित सुपीरियर डायनोस्टिक सेंटर पर अवैध भ्रूण लिंग परीक्षण का कार्य किया जा रहा है। सूचना के पुष्टिकरण के बाद डिकॉय दल गठित किया गया। दल ने डिकॉय गर्भवती महिला को सहयोगी के साथ उक्त सुपीरियर डायनोस्टिक सेंटर पर भेजा।

भ्रूण

ठकराल ने बताया कि चिकित्सक नवीन शर्मा ने दलाल पवन जैन के मार्फत डिकॉय गर्भवती महिला से भ्रूण लिंग परीक्षण के नाम पर 35000 मांगे। इसके बाद गर्भवती महिला के साथ गयी सहयोगी ने चिकित्सक को 35 हजार की राशि दी। इस पर चिकित्सक द्वारा डिकॉय गर्भवती महिला की सोनोग्राफी कर भ्रूण लिंग के बारे में जानकारी दी। इशारा मिलते ही पीबीआई थाने की टीम ने भ्रूण लिंग परीक्षण करते चिकित्सक नवीन शर्मा एवं दलाल पवन जैन को मौके पर ही गिरफ्तार किया। चिकित्सक एवं दलाल के पास से डिकाय के लिये दी गयी हू-ब-हू नंबर के नोट की राशि बरामद की गयी। साथ ही काम में ली गयी सोनोग्राफी मशीन एवं मौके पर मिला रिकॉर्ड भी जब्त कर लिया गया है। प्रकरण से मुलजिमों से अनुसंधान किया जा रहा है।

इस बारे में मिशन निदेशक एवं अध्यक्ष राज्य समुचित प्राधिकृत प्राधिकारी नरेश ठकराल ने बताया सूचना मिली थी कि जयपुर के जनता कॉलोनी स्थित सुपीरियर डायग्नोस्टिक सेन्टर पर भ्रूण लिंग जांच हो रही है। इस पर डिकोय दल गठित कर गर्भवती महिला को सहयोगी के साथ सेन्टर पर भेजा गया। डॉ.नवीन शर्मा ने दलाल पवन जैन के मार्फत डिकोय गर्भवती महिला से जांच के नाम पर 35 हजार रुपए मांगे।

इसके बाद महिला के साथ सहयोगी ने चिकित्सक को 35 हजार रुपए की राशि दी। इस पर डॉक्टर ने भ्रूण के बारें में जानकारी दी। इशारा मिलते ही डॉक्टर व दलाल को मौके पर गिरफ्तार कर लिया। परियोजना निदेशक शालिनी सक्सेना ने बताया कि कोई भी व्यक्ति भ्रूण लिंग जांच से संबंधित सूचना विभाग के टोल फ्री नंबर 104 या 108 व्हाट्सएप नंबर 9799997795 पर दर्ज करा सकते है।