parshuram-jayanti-2021-puja-vidhi
धर्म

अक्षय तृतीया पर पड़ती है भगवान विष्णु के छठे स्वरूप परशुराम की जयंती, इस तरह करे पूजा अर्चना

Khaskhabar/भगवान परशुराम का जन्म ब्राह्मण कुल में वैशाख मास के शुक्ल पक्ष की तृतीया तिथि पर हुआ था। यह तिथि बेहद महत्वपूर्ण मानी जाती है क्योंकि इस तृतीया तिथि को अक्षय तृतीया भी कहा जाता है जो सनातन धर्म के लोगों के लिए बहुत विशेष होती है। हिंदू पंचांग के अनुसार, इस वर्ष अक्षय तृतीया और परशुराम जयंती 14 मई को पड़ रही हैं।

Khaskhabar/भगवान परशुराम का जन्म ब्राह्मण कुल में वैशाख मास के शुक्ल पक्ष की तृतीया तिथि पर हुआ था। यह तिथि बेहद महत्वपूर्ण मानी जाती है क्योंकि इस तृतीया तिथि को अक्षय तृतीया भी कहा जाता है जो सनातन
Posted by khaskhabar

भगवान शिव ने परशु आशीर्वाद में दिया

हिंदू धर्म शास्त्रों में यह उल्लेख किया गया है कि भगवान परशुराम भगवान विष्णु के छठवें अवतार हैं। न्याय के देवता परशुराम को भगवान शिव ने परशु आशीर्वाद में दिया था जिसके वजह से उनका नाम परशुराम रखा गया। परशु का अर्थ फरसा होता है। पौराणिक कथाओं के अनुसार, भगवान परशुराम ने 21 बार इस धरती को क्षत्रिय विहीन कर दिया था।

परशुराम जी की पूजा करने से सभी तरह का भय मिट जाता है

भगवान परशुराम के गुस्से से भगवान गणेश भी नहीं बच पाए थे। ब्रह्मवैवर्त पुराण में यह उल्लेख किया गया है कि एक बार भगवान गणेश ने भगवान परशुराम को शिवजी से मिलने से मना कर दिया था। इस वजह से क्रोधित होकर भगवान परशुराम ने भगवान गणेश का दांत तोड़ दिया था। यही कारण है कि भगवान गणेश को एकदंत जाता है। ‌मान्यताओं के अनुसार, परशुराम जी की पूजा करने से सभी तरह का भय मिट जाता है तथा इंसान के साहस में वृद्धि होती है।

यह भी पढ़े –अरब सागर में बन रहा साल का पहला चक्रवाती तूफान ‘तौकते’, जानें- कब और कहां देगा दस्तक

परशुराम जयंती पूजा विधि

परशुराम जयंती पर सूर्योदय से पहले उठकर स्नान कर लीजिए फिर साफ कपड़े ग्रहण कर लीजिए। पूजा घर को गंगाजल से शुद्ध करने के बाद एक चौकी पर साफ कपड़ा बिछा लीजिए फिर भगवान परशुराम जी की मूर्ति या तस्वीर को उस पर स्थापित कर दीजिए। अब भगवान परशुराम जी के चरणों में फूल और अक्षत अर्पित कीजिए और अन्य पूजन सामग्री चढ़ाइए। पूजन सामग्री अर्पित करने के बाद भगवान परशुराम को मिठाई का भोग अवश्य लगाइए फिर धूप दीप से उनकी आरती कीजिए। अंत में भगवान परशुराम को याद करते हुए उनसे शक्ति प्रदान करने का वरदान मांगिए।

और ज्यादा खबरे पढ़ने और जानने के लिए ,अब आप हमे सोशल मीडिया पर भी फॉलो कर सकते है –
ट्विटर पर फॉलो करने के लिए टाइप करे – @khas_khabar एवं न्यूज़ पढ़ने के लिए #khas_khabar फेसबुक पर फॉलो करने के लाइव आप हमारे पेज @socialkhabarlive को फॉलो कर सकते है|